General Studies

साइमन कमीशन

Advertisement

UPSC परीक्षा देश में कुशल प्रशासकों और सिविल सेवकों की भर्ती के लिए आयोजित की जाती है। इसे भारत में सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है, जो उन उम्मीदवारों द्वारा ली जाती है जो राष्ट्र की सेवा करने की इच्छा रखते हैं। आधुनिक इतिहास इन परीक्षाओं में शामिल प्रमुख विषयों में से एक है। इतिहास में से एक साइमन कमीशन है, जो यूपीएससी और एसएससी परीक्षाओं के इतिहास के अधिकांश सवालों के जवाब देने में आपकी मदद कर सकता है। इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको साइमन कमीशन से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी को विस्तृत में समजायेंगे।

साइमन कमीशन के बारें में (About Simon Commission)

यह वर्ष 1928 की बात है, भारत की आजादी से पहले, जब 7 सांसदों का एक दल ब्रिटेन से भारत आया था। उनका मुख्य उद्देश्य और भारत आने का उद्देश्य संवैधानिक सुधारों पर एक व्यापक अध्ययन करना था ताकि सत्तारूढ़ सरकार को तुरंत सिफारिशें की जा सकें। इसे मूल रूप से भारत का संवैधानिक आयोग, भारतीय सांविधिक आयोग कहा जाता था। साइमन आयोग का नाम इसके अध्यक्ष सर जॉन साइमन के नाम पर रखा गया था। इसका नेतृत्व सर जॉन साइमन ने किया था, जो भारत का दौरा करने वाला एक अंग्रेजी आधारित समूह था। साइमन कमीशन के इन प्रतिनिधियों ने जवाहरलाल नेहरू, गांधी, जिन्ना, मुस्लिम लीग और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस जैसे प्रसिद्ध राजनेताओं की कड़ी प्रतिक्रियाओं को देखते हुए जमीन पर एक लहर प्रभाव पैदा किया। रिपोर्ट तैयार करते समय उन्हें विश्वास में नहीं लिया गया।

साइमन कमीशन की प्रमुख मुख्य विशेषता (Salient Features of Simon Commission) 

अब जब आप साइमन कमीशन की स्पष्ट समझ प्राप्त कर चुके हैं, तो आइए उन मुख्य हाइलाइट्स पर एक नज़र डालते हैं, जो मूल रूप से इसके विस्तार हैं।

Advertisement
  • यह भारत सरकार अधिनियम 1919 के तहत था, द्वैध (दोहरा) शासन की शुरुआत की गई थी।
  • 10 वर्षों के बाद एक कार्य आयोग नियुक्त करने के लिए द्वैध (दोहरा) शासन बनाया गया जो कि, की गई प्रगति की समीक्षा कर सकता है और निर्धारित उपायों पर कार्य कर सकता है।
  • द्वैध (दोहरा) भारतीय जनता सुधारों के खिलाफ हथियार उठा रही थी।
  • इस सुधार को करते समय भारतीय नेताओं को बाहर रखा गया था। इसे सरासर अन्याय और एक तरह के अपमान के रूप में देखा गया।
  • लॉर्ड बिरकेनहेड थे, जो साइमन कमीशन की तैयारी के लिए जिम्मेदार थे।
  • क्लेमेंट एटली, जो साइमन कमीशन के मुख्य सदस्यों में से एक थे, 1947 में भारत की भागीदारी के समय ब्रिटिश प्रधान मंत्री के रूप में एक प्रमुख व्यक्ति थे। कोई भारतीय नियंत्रण नहीं था, सारी महत्वपूर्ण शक्ति अंग्रेजों के हाथों ही में थी।
  • भारत ने इस आयोग को भारतीय जनता पर एक बड़े अपमान और कलंक के रूप में लिया था।
  • साइमन कमीशन तब हुआ जब भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन गतिहीन और दिशाहीन था। उन्होंने वर्ष 1927 में मद्रास में आयोग का बहिष्कार किया। जिन्ना की मुस्लिम लीग ने भी इसका अनुसरण किया।
  • कुछ गुटों और दक्षिण की जस्टिस (Justice) पार्टी ने आयोग का सहारा किया।
  • आखिरकार वर्ष 1928 में, बड़े पैमाने पर प्रदर्शनों और हंगामे के बीच, साइमन कमीशन भारत में उतरा। लोगों ने “गो साइमन गो” और “गो बैक साइमन” के नारों का सहारा लिया था।
  • लाहौर– अब पाकिस्तान में लाला लाजपत राय ने आयोग का कड़ा विरोध किया। उसे भी नहीं बख्शा (तोहफे में देना) गया, उसकी बेरहमी से पिटाई की गई।

साइमन गो बैक और लाला लाजपत राय की मृत्यु (Simon go Back and the Death of Lala Lajpat Rai)

  • प्रसिद्ध नारा साइमन गो बैक सबसे पहले ‘लाला लाजपत राय‘ द्वारा गढ़ा गया था। फरवरी 1928 में साइमन कमीशन के खिलाफ कई विरोध प्रदर्शन हुए। लाला लाजपत राय ने उस महीने पंजाब विधानसभा में आयोग के खिलाफ एक प्रस्ताव पेश किया था।
  • गांधीजी आयोग के समर्थन में नहीं थे क्योंकि उनका मानना था कि भारत के बाहर कोई भी भारत की स्थिति का न्याय नहीं कर सकता है।
  • कांग्रेस पार्टी और मुस्लिम लीग ने आयोग का बहिष्कार (बाहर निकालना) किया। हालांकि, दक्षिण में जस्टिस पार्टी ने सरकार का सहारा किया।
  • लोग विरोध में ‘साइमन गो बैक’ के नारे लगा रहे थे। अक्टूबर 1928 में, जब आयोग लाहौर (अब पाकिस्तान में) पहुंचा, तो लाला लाजपत राय के नेतृत्व में एक विरोध प्रदर्शन ने आयोग के खिलाफ काले झंडे गाड़ दिए।
  • स्थानीय पुलिस ने प्रदर्शनकारियों की पिटाई शुरू कर दी और एक श्वेत (सफेद) पुलिस अधिकारी ने लाला के साथ लाला लाजपत राय की बेरहमी से पिटाई कर दी। वह गंभीर रूप से पीड़ा प्राप्त हो गया और जल्द ही उसकी मृत्यु हो गई।

आयोग के सभी सदस्य ब्रिटिश थे जो भारतीयों का बहुत बड़ा अपमान था। चौरी-चौरी कांड के बाद असहयोग आंदोलन की वापसी के बाद साइमन कमीशन के गठन की घोषणा से स्वत्रंता संग्राम में गतिरोधक टूट गया। 1927 में मद्रास में कोंग्रेस का अधिवेशन हुआ, जिसमे साइमन कमीशन के बहिष्कार का सर्वसम्मत निर्णय लिया गया, जिसमे नेहरु, गाँधी सभी ने इसका विरोध करने का निर्णय लिया। मुस्लिम लीग ने भी साइमन का बहिष्कार करने का निर्णय लिया।

आयोग 3 फरवरी 1928 को भारत पहुंचा। साइमन कोलकाता, लाहौर, लखनऊ, विजयवाड़ा और पुणे सहित जहां भी पहुंचे, उन्हें भारी विरोध का सामना करना पड़ा और लोगों ने उन्हें काले झंडे दिखाए। साइमन गो बैक – साइमन गो बैक के नारे पूरे देश में गूंज रहे थे। लखनऊ में लाठीचार्ज में पंडित जवाहर लाल नेहरू घायल हो गए और गोविंद वल्लभ पंत अपंग हो गए। 30 अक्टूबर 1928 को लाला लाजपत राय के नेतृत्व में साइमन का विरोध करने वाले युवकों को बेरहमी से पीटा गया। पुलिस ने बेरहमी से लाला लाजपत राय के सीने पर लाठियां बरसाईं। वह बुरी तरह घायल हो गया था और मरने से पहले उसने कहा था कि “आज मुझ पर बरसने वाली हर छड़ी अंग्रेजों के ताबूत में कील बन जाएगी“।

क्रांतिकारियों द्वारा बदला (Revenge by Revolutionaries)

वह दिन 30 अक्टूबर 1928 था। सात सदस्यीय साइमन कमीशन संवैधानिक सुधारों की समीक्षा करने और एक रिपोर्ट तैयार करने के लिए लाहौर पहुंचा। “साइमन गो बैक” के रंगभेद के नारे पूरे भारत में गूंज रहे थे। इस आयोग के सभी सदस्य गोरे थे, एक भी भारतीय नहीं।

लाहौर में साइमन कमीशन के खिलाफ प्रदर्शन का नेतृत्व शेर-ए-पंजाब लाला लाजपत राय ने किया था। नौजवान भारत सभा के क्रान्तिकारियों ने साइमन विरोधी सभा और प्रदर्शन का प्रबंधन अपने हाथ में ले लिया। जहां से आयोग के सदस्यों को निकलना था, वहां काफी भीड़ थी। लाहौर के पुलिस अधीक्षक स्कॉट ने लाठीचार्ज का आदेश दिया और उपाधीक्षक सॉन्डर्स ने जनता पर हमला बोला। भगत सिंह और उनके साथियों ने इस अत्याचार को देखा, लेकिन लाला जी ने उन्हें शांत रहने के लिए कहा। लाहौर का आसमान ब्रिटिश विरोधी नारों से गूंज रहा था और प्रदर्शनकारियों के सिर फट रहे थे। इसमें स्कॉट ने खुद लाला लाजपत राय को डंडे से बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया और वह गंभीर रूप से घायल हो गया। अंत में उन्होंने जनसभा में शेर की दहाड़ लगाई, मेरे शरीर पर जो लाठियां बरसाई गई हैं, वे भारत में ब्रिटिश शासन के कफन में आखिरी कील साबित होंगी। 18 दिन बाद 17 नवंबर 1928 को वही लाठी लाला लाजपत राय की शहादत का कारण बनी। भगत सिंह और उनके साथी क्रांतिकारियों की नजर में यह राष्ट्र का अपमान था, जिसका प्रतिशोध “खून के बदले खून” के सिद्धांत से ही लिया जा सकता था। निर्णायक निर्णय 10 दिसंबर 1928 की रात को लिए गए। भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, राजगुरु, सुखदेव, जय गोपाल, दुर्गा भाभी आदि एकत्रित हुए। भगत सिंह ने कहा कि उन्हें मेरे हाथों मरना चाहिए। आजाद, राजगुरु, सुखदेव और जयगोपाल के साथ भगत सिंह को यह कार्य सौंपा गया था।

Advertisement

17 दिसंबर 1928 को उप अधीक्षक सॉन्डर्स ने कार्यालय छोड़ दिया। उन्हें स्कॉट समझकर राजगुरु ने उन पर गोली चला दी, भगत सिंह ने भी उनके सिर पर गोलियां चलाईं। ब्रिटिश सत्ता हिल गई। अगले दिन एक पोस्टर भी वितरित किया गया, लाहौर की दीवारों पर चिपकाया गया। इसमें लिखा था – हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन ने लाला लाजपत राय की हत्या का बदला लिया है और फिर “साहब” बने भगत सिंह ने बच्चे को गोद में लिया और नायिका दुर्गा भाभी के साथ कोलकाता मेल में बैठ गए। राजगुरु नौकरों के डिब्बे में बैठे और आजाद साधु बन गए और दूसरे डिब्बे में चले गए। स्वतंत्रता संग्राम के नायकों ने एक नया इतिहास रचने के लिए आगे बढ़े। भगत सिंह ने कोलकाता में कई क्रांतिकारियों से मुलाकात की। भगवती चरण पहले से मौजूद थे। सेंट्रल असेंबली में बम फेंकने का विचार भी कोलकाता में ही बना था। इसका मौका भी जल्द ही आ गया। सेंट्रल असेंबली में दो बिल पेश किए जाने थे – “लोक सुरक्षा विधेयक” और “औद्योगिक विवाद विधेयक” जिसका उद्देश्य देश में युवा आंदोलन को कुचलना और श्रमिकों को हड़ताल के अधिकार से वंचित करना था।

भगत सिंह और आजाद के नेतृत्व में क्रांतिकारियों की बैठक में यह निर्णय लिया गया कि 8 अप्रैल 1929 को जब वायसराय विधानसभा में इन दोनों प्रस्तावों को कानून बनाने की घोषणा करते हैं, तब ही बम विस्फोट किया जाना चाहिए। इसके लिए श्री बटुकेश्वर दत्त और विजय कुमार सिन्हा को चुना गया, लेकिन बाद में भगत सिंह ने खुद दत्त के साथ यह काम करने का फैसला किया।

उसी समय जब वायसराय ने जनविरोधी, भारत विरोधी प्रस्तावों को कानून बनाने की घोषणा की तो दत्त और भगत सिंह भी उठ खड़े हुए। पहला बम भगत सिंह ने फेंका और दूसरा दत्त ने फेंका और “इंकलाब जिंदाबाद” का नारा लगाया। हंगामा हुआ, जॉर्ज शूस्टर अपनी मेज के नीचे छिप गए। सार्जेंट टेरी इतना भयभीत था कि वह दोनों को गिरफ्तार नहीं कर सका। दत्त और भगत सिंह आसानी से बच सकते थे, लेकिन उन्हें स्वेच्छा से बंदी बना लिया गया था। उन्हें दिल्ली जेल में रखा गया था और मुकदमा वहीं चला।

इसके बाद दोनों को लाहौर ले जाया गया, लेकिन भगत सिंह को मियांवाली जेल में रखा गया। लाहौर में सांडर्स की हत्या, विधानसभा में बम विस्फोट आदि जैसे मामले चलते रहे और 7 अक्टूबर 1930 को ट्रिब्यूनल का फैसला जेल तक पहुंचा। जो इस प्रकार था- भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी, कमलनाथ तिवारी, विजय कुमार सिन्हा, जयदेव कपूर, शिव वर्मा, गया प्रसाद, किशोर लाल और महावीर सिंह को उम्रकैद, कुंदनलाल को सात और प्रेमदत्त को कठोर कारावास तीन साल की सजा सुनाई गई। दत्त को असेंबली बम मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाने का आदेश दिया गया था।

साइमन कमीशन की सिफारिश (Recommendation of Simon Commission)

इस साइमन कमीशन की मुख्य सिफारिशें थीं

Advertisement
  • देश के शासन को प्रभावी ढंग से चलाने के लिए एक संघीय और लचीला संविधान बनाया जाना चाहिए।
  • बर्मा को भारत से अलग किया जाना चाहिए और उड़ीसा और सिंध को एक अलग प्रांत का अधिकार दिया जाना चाहिए।
  • उच्च न्यायालय का सम्पूर्ण संचालन भारत सरकार के हाथो में होना चाहिए।
  • देश के प्रांतीय विधानमंडलों के सदस्यों की संख्या में वृद्धि की जानी चाहिए।
  • 1919 के ‘भारत सरकार अधिनियम‘ के तहत लागू द्वैध (दोहरा) शासन व्यवस्था को समाप्त किया जाना चाहिए।
  • हर 10 साल में एक संविधान आयोग नियुक्त करने की व्यवस्था को समाप्त कर दिया जाना चाहिए।
  • राज्यपाल और गवर्नर जनरल को अल्पसंख्यक जातियों के हितों पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

साइमन कमीशन के प्रभाव और उदेश्य (Effects and Objectives of Simon Commission)

अब जब आप साइमन कमीशन के बारे में सामान्य जानकारी को समझ गए हैं, तो आइए एक कदम इसके प्रभावों और उद्देश्यों की ओर बढ़ते हैं।

  • इसका मुख्य परिणाम भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रति दिशाहीन (directionless) था।
  • इसका मुख्य उद्देश्य देश के सामाजिक ताने-बाने को तोड़ने के लिए सांप्रदायिक भावनाओं को व्यापक बनाना था।
  • यह भारतीयों को शासन की शक्तियां इनायत करने की प्रक्रिया में देरी करना चाहता था।
  • वे क्षेत्रीय आंदोलन को बढ़ावा देने और समर्थन करने की कोशिश कर रहे थे जो देश में राष्ट्रीय आंदोलनों को स्वचालित रूप से मिटा सकता है।

साइमन कमीशन का परिणाम (Result of Simon Commission)

कई सिफारिशों के अलावा, उन्होंने जल्द ही महसूस किया कि भारत का शिक्षित क्षेत्र परिवर्तनों को पूरी तरह से स्वीकार नहीं कर रहा था, इसलिए उन्होंने भारतीयों की बेहतरी के लिए कुछ बदलावों का सुझाव दिया। आयोग के परिणामस्वरूप भारत सरकार अधिनियम 1935 आया, जिसे भारत में प्रांतीय स्तर पर “जिम्मेदार” सरकार कहा जाता था, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर नहीं – यह लंदन के बजाय भारतीय समुदाय के लिए जिम्मेदार सरकार थी। 1937 में, पहले प्रांतीय चुनाव हुए, उन्होंने कई प्रांतों में कांग्रेस की सरकार बनाई।

साइमन कमीशन के महत्वपूर्ण सवाल जवाब

  1. साइमन कमीशन का क्या अर्थ है?
    Ans. साइमन कमीशन सात ब्रिटिश सांसदों का एक मुख्य समूह था, जिसका गठन 1927 में भारत में संवैधानिक सुधारों का पढाई करने के लिए किया गया था। इसकी सभापति सर जॉन साइमन के नाम पर इसे साइमन कमीशन कहा जाता है।
  2. साइमन कमीशन का उद्देश्य क्या था?
    Ans. भारत में ब्रिटिश भारतीय प्रांतों और रियासतों से मिलकर एक संघ की स्थापना और केंद्र में जिम्मेदार शासन की व्यवस्था होनी चाहिए।
  3. साइमन कमीशन भारत में कब आया ?
    Ans. 1927 में मद्रास में कांग्रेस का अधिवेशन हुआ जिसमें सर्वसम्मति से साइमन कमीशन का बहिष्कार करने का निर्णय लिया गया। मुस्लिम लीग ने भी साइमन का बहिष्कार करने का निर्णय लिया। आयोग 3 फरवरी 1928 को भारत पहुंचा।
  4. सॉन्डर्स कौन था?
    Ans. लालाजी की मृत्यु का बदला लेने के लिए 17 दिसंबर 1928 को भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव द्वारा सॉन्डर्स की हत्या कर दी गई थी।
  5. साइमन कमीशन के भारत आने पर वायसराय कौन था?
    Ans. लॉर्ड इरविन को 3 अप्रैल, 1926 को भारत के वायसराय और गवर्नर जनरल के रूप में नियुक्त किया गया था। 1927 में, ब्रिटिश सरकार ने सर स्टैफोर्ड क्रिप्स की अध्यक्षता में साइमन कमीशन का गठन किया।

Last Final Word: 

हम आशा करते हैं, की आपको साइमन कमीशन का हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। इसे अपने दोस्तों और बाकी सभी को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि उन्हें भी साइमन कमीशन के बारे में जानकारी मिल सके और जो छात्र UPSC,SSC की तैयारी कर रहे हैं उन्हें भी इसका ज्ञान हो।

Advertisement

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी छात्रों को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement