General Studies

सम्राट अशोक का जीवन परिचय

Advertisement

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में आप से हम भारत के सबसे महान और पराक्रमी महाराजा Samrat Ashok की जीवनी बताने जा रहे हैं। अशोक सम्राट प्राचीन भारत में मौर्य वंश के चक्रवर्ती राजा थे। उनका पूरा नाम अशोक बिंदुसार मौर्य था और उनकी निडरता और दृढ़ता के लिए उन्हें अशोक महान कहा जाता था। Samrat Ashok अपने वंश का तीसरा महान राजा था जिसने भारत के सभी महाद्वीपों पर शासन किया था। आज हम सभी को राजा अशोक कथा में अशोक पत्नी, चक्रवर्ती अशोक सम्राट कास्ट और अशोक पूर्वजों के बारे में बताने जा रहे हैं।

सम्राट अशोक जीवनी (Samrat Ashok Biography)

अशोक सम्राट प्राचीन भारत में मौर्य वंश के चक्रवर्ती राजा थे। उनका पूरा नाम अशोक बिंदुसार मौर्य था और उनकी निडरता और दृढ़ता के लिए उन्हें अशोक महान कहा जाता था। Samrat Ashok अपने वंश का तीसरा महान राजा था जिसने भारत के सभी महाद्वीपों पर शासन किया था। आज हम सभी को राजा Samrat Ashok कथा में अशोक पत्नी, चक्रवर्ती अशोक सम्राट कास्ट और Samrat Ashok पूर्वजों के बारे में बताने जा रहे हैं।

बिन्दुसार ने Samrat Ashok को प्रशासनिक शिक्षा के लिए उज्जैन का सूबेदार नियुक्त किया। अशोक बचपन से ही बहुत मेधावी था। अशोक की गिनती विश्व के महानतम शासकों में की जाती है। Samrat Ashok का जन्म 304 ईसा पूर्व पाटलिपुत्र में हुआ था, जो आज का पटना है। अशोक मौर्य मौर्य वंश के दूसरे राजा बिंदुसार और रानी धर्म के पुत्र थे। भगवान बुद्ध के विचारों को दुनिया के कई देशों में लोगों तक पहुंचाने और बौद्ध धर्म का जोर-शोर से प्रचार करने के कारण उनका नाम पूरी दुनिया में मशहूर है। Samrat Ashok बिंदुसार के पुत्र थे, बौद्ध ग्रंथ दीपवंश में बिंदुसार की 16 पत्नियों और 101 पुत्रों का उल्लेख है। Samrat Ashok की माता का नाम शुभदागरी था। बिन्दुसार ने अपने सभी पुत्रों को सर्वोत्तम शिक्षा देने की व्यवस्था की थी। लेकिन अशोक उन सब में श्रेष्ठ और बुद्धिमान था। सम्राट अशोक की माता का नाम रानी पद्मावती, तिष्यराक्ष, महारानी देवी और करुवाकी था अर्थात चक्रवर्ती अशोक की चार पत्नियां थीं।

Advertisement
 नामअशोक बिंदुसार मौर्य
 जन्म 304 ईसा पूर्व (संभावित), पाटलिपुत्र (पटना)
 पिता राजा बिंदुसार
 माता  महारानी धर्मा, शुभद्रांगी
 पत्नी रानी पद्मावती, तिश्यारक्षा, महारानी देवी, करुवकी
 बच्चे कुणाल, महिंदा, संघमित्रा, जालुक, चारुमति, तिवाला
 वंश मौर्य वंश
 मृत्यु 232 ईसा पूर्व, पाटलिपुत्र, पटना

सम्राट अशोक का बचपन (Emperor Ashok’s childhood)

राजवंश परिवार में जन्में सम्राट अशोक बचपन से ही अत्यंत प्रतिभाशाली और तेज बुद्धि के बच्चे थे। प्रारम्भ से ही उनमें युद्ध और सैन्य कौशल के गुण दिखाई देते थे, इस गुण को बढ़ाने के लिए उन्हें शाही प्रशिक्षण भी दिया जाता था। इसके साथ ही Samrat Ashok शुरू से ही धनुर्विद्या में कुशल थे, इसलिए उन्हें उच्च कोटि का शिकारी भी कहा जाता था। भारतीय इतिहास के इस महान योद्धा में लकड़ी के डंडे से शेर को मारने की अद्भुत क्षमता थी। Samrat Ashok एक जीवंत शिकारी और साहसी योद्धा भी थे।

उनके गुणों के कारण उन्हें मौर्य साम्राज्य के अवंती में उस समय हो रहे दंगों को रोकने के लिए भेजा गया था। अशोक की अनूठी प्रतिभा के कारण, उन्होंने बहुत कम उम्र में अपने पिता का प्रशासन संभालना शुरू कर दिया था। वह अपनी प्रजा का भी बहुत ध्यान रखता था। इसी कारण वह अपनी प्रजा का प्रिय शासक भी था। वहीं Samrat Ashok की अनूठी प्रतिभा और अच्छे सैन्य गुणों के कारण, उनके पिता बिंदुसार भी उनसे बहुत प्रभावित थे, इसलिए उन्होंने बहुत कम उम्र में मौर्य वंश का सिंहासन अशोक को सौंप दिया।

सम्राट अशोक बड़े होकर सम्राट कैसे बने? (How did Emperor Ashok Grow up to Become an Emperor?)

जब अशोक के बड़े भाई सुशीम अवंती की राजधानी उज्जैन के गवर्नर थे, तब अवंति में हुए विद्रोह में भारतीय और यूनानी मूल के लोगों के बीच दंगा छिड़ गया, जिसे देखते हुए राजा बिंदुसार ने अपने पुत्र अशोक को इस विद्रोह को दबाने के लिए भेजा। भेजा, जिसके बाद Samrat Ashok ने अपनी कुशल रणनीति अपनाकर इस विद्रोह को शांत किया। इससे प्रभावित होकर राजा बिंदुसार ने अशोक को मौर्य वंश का शासक नियुक्त किया। अवंति में विद्रोह को दबाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के बाद Samrat Ashok को अवंती प्रांत का वायसराय भी नियुक्त किया गया था।

साथ ही उनकी छवि एक कुशल राजनीतिज्ञ योद्धा के रूप में भी बनी। इसके बाद लगभग 272 ईसा पूर्व में सम्राट अशोक के पिता बिंदुसार की मृत्यु हो गई। उसी समय सम्राट अशोक को राजा बनाने के लिए Samrat Ashok और उसके सौतेले भाइयों के बीच भीषण युद्ध हुआ। इसी दौरान अशोक का विवाह विदिशा की बेहद खूबसूरत राजकुमारी शाक्य कुमारी से हुआ था। शादी के बाद दोनों को महेंद्र और संघमित्रा नाम की संतान भी हुई। कुछ इतिहासकारों के अनुसार 268 ईसा पूर्व के दौरान मौर्य वंश के Samrat Ashok ने अपने मौर्य साम्राज्य का विस्तार करने के लिए लगभग 8 वर्षों तक युद्ध लड़ा था।

Advertisement

इस दौरान उन्होंने मौर्य साम्राज्य का न केवल भारत के सभी उपमहाद्वीप में विस्तार ही किया, बल्कि भारत और ईरान की सीमा के साथ-साथ अफगानिस्तान के हिंदुकाश में मौर्य साम्राज्य को भी सिक्का चलवाया। इसके अलावा, महान अशोक ने दक्षिण में मैसूर, कर्नाटक और कृष्णा गोदावरी घाटी पर भी कब्जा कर लिया। उनके साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र (आज का बिहार) के साथ-साथ इसकी उप-राजधानियां तक्षशिला और उज्जैन थीं। इस तरह सम्राट अशोक का शासन धीरे-धीरे बढ़ता गया और उसका साम्राज्य उस समय तक का सबसे बड़ा भारतीय साम्राज्य बन गया। हालांकि, अशोक मौर्य साम्राज्य को तमिलनाडु, श्रीलंका और केरल तक विस्तारित करने में सफल नहीं हुए।

अशोका और कलिंगा घमासान युध्द कैसे भारी पड़ा (How did the Ashok and Kalinga War Turn out to be Heavy)

लगभग 261 ईसा पूर्व में, भारतीय इतिहास के सबसे शक्तिशाली और शक्तिशाली योद्धा Samrat Ashok ने अपने मौर्य साम्राज्य का विस्तार करने के लिए कलिंग राज्य (Present Odisha) पर आक्रमण किया और इसके खिलाफ एक विनाशकारी युद्ध की घोषणा की। इस भीषण युद्ध में करीब 1 लाख लोगों की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी, जिसमें सबसे ज्यादा लोग हताहत हुए थे। इसके साथ ही इस युद्ध में करीब डेढ़ लाख लोग बुरी तरह घायल हुए थे। इस तरह Samrat Ashok कलिंग पर अधिकार करने वाले मौर्य वंश के पहले शासक बने, लेकिन इस युद्ध में हुए भारी रक्तबहाव (Bleeding) ने उन्हें झकझोर कर रख दिया।

सम्राट अशोक को बौद्ध धर्म क्यो अपना ना पड़ा? (Why Emperor Ashok had to adopt Buddhism)

कलिंग युद्ध के विनाशकारी युद्ध और परिवार के रोते हुए कई सैनिकों, महिलाओं और मासूम बच्चों की मौत देखकर Samrat Ashok का हृदय परिवर्तन हुआ था। इसके बाद अशोक ने सोचा कि यह सब लालच का परिणाम है, और उन्होंने अपने जीवन में फिर कभी युद्ध नहीं लड़ने का संकल्प लिया। 263 ईसा पूर्व में मौर्य वंश के शासक Samrat Ashok ने धर्म परिवर्तन का मन बना लिया था। उन्होंने बौद्ध धर्म अपनाया और ईमानदारी, सच्चाई और शांति के मार्ग पर चलना सीखा और अहिंसा के पुजारी बन गए थे।

बौद्ध धर्म अपना ने के बाद सम्राट अशोक एक महान शासक एक धर्मपरायण योद्धा के रुप में आए (After adopting Buddhism, Emperor Ashok Came as a Great Ruler, a Pious Warrior)

बौद्ध धर्म अपनाने के बाद Samrat Ashok एक महान शासक और एक धर्मपरायण योद्धा के रूप में आए। इसके बाद उन्होंने अपने मौर्य साम्राज्य के सभी लोगों को अहिंसा का मार्ग अपनाने और अच्छे काम करने की सलाह दी और उन्होंने खुद कई सार्वजनिक अच्छे काम किए और साथ ही शिकार और पशु हत्या को पूरी तरह से छोड़ दिया। ब्राह्मणों को स्वतंत्र रूप से दान दिया और कई गरीबों और असहायों की सेवा की। इसके साथ ही जरूरतमंदों के इलाज के लिए अस्पताल खोले गए, सड़कें बनाई गईं, इतना ही नहीं अशोक ने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 20 हजार से अधिक विश्वविद्यालयों की नींव रखी (Laid the Foundation) थी।

हृदय परिवर्तन के बाद Samrat Ashok ने सबसे पहले पूरे एशिया में बौद्ध धर्म का जोरदार प्रचार किया। इसके लिए उन्होंने कई धार्मिक ग्रंथों का सहारा लिया। इस दौरान Samrat Ashok ने दक्षिण एशिया और मध्य एशिया में भगवान बुद्ध के अवशेषों को संरक्षित करने के लिए लगभग 84 हजार स्तूपों का निर्माण भी कराया था। जिसमें वाराणसी के पास स्थित सारनाथ और मध्य प्रदेश का सांची स्तूप बहुत प्रसिद्ध है, जिसमें भगवान बुद्ध के अवशेष आज भी देखे जा सकते हैं।

Advertisement

अशोक के अनुसार बौद्ध धर्म सामाजिक और राजनीतिक एकता का धर्म था। बुद्ध के प्रचार के लिए उन्होंने अपने राज्य में विभिन्न स्थानों पर भगवान गौतम बुद्ध की मूर्तियाँ स्थापित कीं। और बुद्ध ने धर्म का विकास किया। Samrat Ashok ने ही बौद्ध धर्म को विश्व धर्म के रूप में मान्यता दी थी। बौद्ध धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए अशोक ने अपने पुत्र महेंद्र और पुत्री संघमित्रा को भिक्खुनी के रूप में भारत से बाहर नेपाल, अफगानिस्तान, मिस्र, सीरिया, ग्रीस, श्रीलंका आदि भेजा था।

जहां उनके पुत्र महेंद्र को बौद्ध धर्म के प्रचारक के रूप में सबसे अधिक सफलता मिली, वहीं महेंद्र ने श्रीलंका के राजा तिस्सा को बौद्ध धर्म की शिक्षाओं के बारे में बताया, जिससे प्रभावित होकर उन्होंने बौद्ध धर्म को अपना राज्य धर्म बना लिया। जनकल्याण के लिए उनके द्वारा किए गए कार्य इतिहास में अमर हो गए हैं। नैतिकता, उदारता और भाईचारे का संदेश देने वाले Samrat Ashok ने देश के कोने-कोने में कई अनूठी इमारतें और स्तंभ और शिलालेख भी बनवाए, जिन पर बौद्ध धर्म के संदेश खुदे (Compressed)  हुए थे।

सम्राट अशोक का अशोक चक्र (Ashok Chakra of Emperor Ashoka)

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह ‘अशोक चक्र’ और शेरों का ‘त्रिमूर्ति’ भी अशोक महान की देन है। ये कार्य अशोक द्वारा निर्मित स्तंभों और स्तूपों पर खुदे हुए हैं। सम्राट अशोक का अशोक चक्र, जिसे धर्म चक्र के नाम से भी जाना जाता है, आज हमें भारत गणराज्य के तिरंगे के बीच में दिखाई देता है। ‘त्रिमूर्ति’ सारनाथ (Varanasi) में बौद्ध स्तूप के स्तंभों पर बनी चट्टान की मूर्तियों की प्रतिकृति है।

सम्राट अशोक का व्यक्तिगत जीवन (Personal life of Emperor Ashok)

जब सम्राट अशोक अपने भाइयों की दुश्मनी से दूर थे, तो उन्हें रानी कौरवकी से प्यार हो गया और आखिरकार उन्होंने शादी कर ली। उज्जैन में जब वे अपने घावों का इलाज करवा रहे थे, तब उनकी मुलाकात विदिशा की “विदिशा महादेवी शाक्य कुमारी” से हुई, जिनसे उन्होंने शादी की। बाद में उनके दो बच्चे महेंद्र और बेटी संघमित्रा भी हुए जिन्होंने बाद में अशोक को सीलोन में बौद्ध धर्म का प्रचार करने में मदद की जिसे आज श्रीलंका के नाम से जाना जाता है। 232 ईसा पूर्व में 72 वर्ष की आयु में एक शांति और दयालु राजा के रूप में उनका निधन हो गया।

सम्राट अशोक की मृत्यु (Death of Emperor Ashok)

सम्राट अशोक ने लगभग 40 वर्षों तक मौर्य वंश पर शासन किया। उनकी मृत्यु लगभग 232 ई.पू. हुई थी, ऐसा माना जाता है कि सम्राट अशोक की मृत्यु के बाद मौर्य वंश लगभग 50 वर्षों तक चला। अशोक महान विश्व इतिहास में एक अतुलनीय चरित्र है। उनके जैसे ऐतिहासिक पात्र अन्यत्र दुर्लभ हैं। वह हमेशा भारतीय इतिहास के चमकते सितारे के रूप में चमकेंगे।

Advertisement

सम्राट अशोक तथ्य (Emperor Ashoka Facts)

  • सम्राट अशोक के पिता बिंदुसार की 16 पत्नियां और 101 पुत्र थे। बिन्दुसार ने अपने सभी पुत्रों को उत्कृष्ट शिक्षा देने की व्यवस्था की थी। लेकिन अशोक उन सब में श्रेष्ठ और बुद्धिमान था।
  • उनके पिता बिंदुसार उनकी असाधारण प्रतिभा और अच्छे सैन्य गुणों के कारण उनसे बहुत प्रभावित थे, इसलिए सम्राट अशोक को बहुत कम उम्र में मौर्य वंश का सिंहासन सौंप दिया गया था।
  • सम्राट अशोक का साम्राज्य उस समय तक का सबसे बड़ा भारतीय साम्राज्य बन गया, हालांकि, अशोक मौर्य साम्राज्य को तमिलनाडु, श्रीलंका और केरल तक विस्तारित करने में सफल नहीं हुए।
  • वंश कुल में जन्म लेने वाले सम्राट अशोक बचपन से ही अत्यंत प्रतिभाशाली और तेज बुद्धि के बालक थे, उनमें युद्ध और सैन्य कौशल के गुण प्रारम्भ से ही दृश्यमान होने लगे थें।

अशोक सम्राट से जुड़े कुछ महत्त्वपूर्ण सवाल के जवाब

1. अशोक की कितनी पत्नियां थीं?

चक्रवर्ती सम्राट अशोक की पांच पत्नियां थीं।

2. अशोक का उत्तराधिकारी कौन था?

अशोक के उत्तराधिकारी राजकुमार कुणाल थे, जिन्होंने भारत-नेपाल सीमा पर मिथिला में अपना शासन स्थापित किया।

3. अशोक की मृत्यु कब हुई थी?

232 ई. में अशोक की मृत्यु हो गई।

4. सम्राट अशोक के कितने भाई थे?

Advertisement

महाराजा बिंदुसार की 16 पत्नियां और 101 पुत्र थे यानी सम्राट अशोक के सौ भाई थे।

5. सम्राट अशोक का जन्म कब हुआ था?

सम्राट अशोक का जन्म 304 ई.सा. पूर्व में हुआ था।

Last Final Word: 

इस लेख के माध्यम से हमने सम्राट अशोक से संबंधित पूरी जानकारी दी है जैसे की सम्राट अशोक की जीवनी, सम्राट अशोक का बचपन, सम्राट अशोक बड़े होकर सम्राट कैसे बने, अशोका और कलिंगा घमासान युध्द कैसे भारी पड़ा, सम्राट अशोक को बोद्ध धर्म क्यों अपना ना पड़ा, बौद्ध धर्म अपना ने के बाद सम्राट अशोक एक महान शासक एक धर्मपरायण योद्धा के रुप में आए, सम्राट अशोक का अशोक चक्र, सम्राट अशोक का व्यक्तिगत जीवन, अशोक सम्राट के पुछे गए महत्व के प्रश्न, सम्राट अशोक की मृत्यु कैसे हुई इन सभी से सबंधीत महत्वपूर्ण जानकारी दे दी गई है।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान  से जुड़ी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement