General Knowledge

रानी की वाव

Advertisement

रानी की वाव भारत के गुजरात राज्य के पाटन जिले में स्थित एक बहुत ही प्रसिद्ध बावड़ी है। यह भारत की सबसे पुरानी और ऐतिहासिक धरोहरों में से एक है। यह बावड़ी गुजरात के सरस्वती नदी के किनारे पर स्थित है, इस बावड़ी में 7 मंजिले है। बावड़ी के हिंदी में कई अलग-अलग नाम हैं, इसे बावड़ी, बावली और गुजराती में वाव कहा जाता है और मराठी में इसे बारव कहा जाता है।

यह अपने आप में ही एक अनोखी बावड़ी है “रानी की वाव” चारों ओर से बहुत ही आकर्षक कलाकृतियों और मूर्तियों से घिरी हुई है। इस ऐतिहासिक बावड़ी का निर्माण 11वीं शताब्दी में सोलंकी वंश के राजा भीमदेव की स्मृति में उनकी पत्नी रानी उदयमती ने करवाया था। सरस्वती नदी के तट पर स्थित इस बावड़ी को 23 जून 2014 को यूनेस्को द्वारा अपनी अद्भुत और विशाल संरचना के कारण विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया गया है। यह अपने आप में एक अद्भुत संरचना है, जो भूमिगत जल के स्रोतों से थोड़ी अलग है। इस विशाल ऐतिहासिक संरचना के अंदर 500 से अधिक मूर्तियों को शानदार ढंग से प्रदर्शित किया गया है। इस ऐतिहासिक बावड़ी को वर्ष 2018 में आरबीआई द्वारा जारी 100 रुपये के नए नोट पर भी छापा गया है।

रानी कि वाव का इतिहास 

अपनी अद्भुत स्थापत्य शैली के लिए जाना जाने वाला यह विशाल रानी की वाव गुजरात के पाटन शहर में स्थित है। मध्यकाल में कभी गुजरात की राजधानी रहा पाटन बीते युग का गवाह है। पाटन 8 वीं शताब्दी के दौरान चालुक्य राजपूतों के चावड़ा साम्राज्य के राजा वनराज चावड़ा द्वारा निर्मित एक गढ़वाले शहर था। इस भव्य बावड़ी का निर्माण सोलंकी वंश के शासक भीमदेव की पत्नी उदयमती ने 10वीं-11वीं शताब्दी में अपने दिवंगत पति की याद में करवाया था। इस 7 मंजिला बावड़ी का निर्माण 1022 और 1063 के बीच किया गया था।

Advertisement

सोलंकी वंश के शासक और संस्थापक भीमदेव ने 1021 से 1063 ईस्वी तक वडनगर गुजरात पर शासन किया। अहमदाबाद से लगभग 140 किमी की दूरी पर स्थित यह ऐतिहासिक धरोहर रानी की वाव को  राजा रानी के प्रेम का प्रतीक माना जाता है।

ऐसा माना जाता है कि इस अनोखी बावड़ी को पानी के उचित प्रबंधन के लिए बनाया गया था, क्योंकि इस क्षेत्र में बहुत कम वर्षा होती है, जबकि कुछ लोककथाओं के अनुसार, रानी उदयमती का उद्देश्य जरूरतमंद लोगों को पानी उपलब्ध करना था। इसके अलावा, इस स्मारक के किनारों पर उगने वाली जड़ी-बूटियों का उपयोग वायरल बुखार के इलाज के लिए किया जाता था, जो उस समय घातक रोग थे।

सरस्वती नदी के तट पर स्थित यह विशाल बावड़ी इस नदी में आई बाढ़ के कारण लगभग 700 वर्षों तक कीचड़ और मिट्टी के मलबे में दबी रही, जिसके बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने 80 के दशक में इस स्थान की खुदाई की। काफी मशक्कत के बाद यह बावड़ी पूरी दुनिया के सामने आई।

रानी की वाव वास्तुकला – इंजीनियरिंग और कला का एक करतब

गुजरात में स्थित “रानी वाव” 11वीं शताब्दी की वास्तुकला का एक अनूठा उदाहरण है। इस बावड़ी का निर्माण मारू-गुर्जर स्थापत्य शैली का उपयोग करके किया गया है। इस जल संग्रह प्रणाली का यह अनूठा मॉडल इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यह उचित जल संग्रह तकनीकों की जटिलता, बारीकियों की बहुत सुंदर कला क्षमता और अनुपात को प्रदर्शित करता है।

Advertisement

इस भव्य सीढ़ी की पूरी संरचना भूतल के नीचे स्थित है, जिसकी लंबाई लगभग 64 मीटर, चौड़ाई लगभग 20 मीटर, जबकि यह 27 मीटर गहरी है। यह अपने समय के सबसे पुराने और अद्भुत स्मारकों में से एक है। इस बावड़ी की दीवारों को उत्कृष्ट शिल्प कौशल और सुंदर मूर्तियों से उकेरा गया है। यह एक सात मंजिला बावड़ी है जिसमें पाँच निकास द्वार हैं और इसमें निर्मित 800 से अधिक मूर्तियाँ आज भी मौजूद हैं।

इसके साथ ही इस विशाल बावड़ी की सीढ़ियों पर बनी सुंदर आकृतियां यहां आने वाले पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। आपको बता दें कि आपके प्रवेश से लेकर आपकी गहराई तक यह अनोखी बावड़ी पूरी तरह से उत्कृष्ट शिल्प कौशल से सुसज्जित है। इस विशाल बावड़ी की अद्भुत संरचना और अद्वितीय शिल्प कौशल अपने आप में अद्वितीय है।

सबसे खास बात यह है कि यह बावड़ी करीब 700 साल से कटे हुए होने के बाद भी बहुत अच्छी स्थिति में है। वाव के स्तंभ सोलंकी राजवंश और इसकी वास्तुकला के अद्वितीय नमूने हैं। सात मंजिला सीढ़ीदार इस अनूठी बावड़ी की दीवारों पर खूबसूरत मूर्तियां और कलाकृतियां उकेरी गई हैं। इस अद्भुत बावड़ी में 500 से अधिक बड़ी मूर्तियां हैं, जबकि 1 हजार से अधिक छोटी मूर्तियां हैं। भगवान विष्णु के दशावतार की मूर्ति को जल स्तर पर शेषनाग नामक हजार हुड वाले नाग पर विश्राम के रूप में उकेरा गया है।

रानी की वाव विश्व धरोहर स्थल

यह सात मंजिला ऐतिहासिक और विशाल बावड़ी, अपनी अनूठी शिल्प कौशल, अद्भुत बनावट और इसकी भव्यता के साथ, इसे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा खिताब के लिए नामित किए जाने के बाद 2014 में अपनी विश्व धरोहर स्थल यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया है। . ‘रानी की वाव’ एकमात्र ऐसी बावली है जिसे विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया है, जो इस बात का प्रमाण है कि प्राचीन भारत में जल प्रबंधन कितना अच्छा था।

पाटन के स्थानीय लोगों ने भी भारत की इस अनमोल विरासत को विश्व विरासत सूची में शामिल करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है, जिन्होंने इस प्रक्रिया के दौरान हर कदम पर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और राज्य सरकार को अपना पूरा समर्थन दिया है।

Advertisement

रानी की वाव को 100 रुपये के नए नोट पर छापा गया

रानी की वाव को नए लैवेंडर 100 रुपये के नोट पर चित्रित किया गया है, गुजरात की रानी की वाव ने नोट पर कंचनजंगा के दक्षिणपूर्व चेहरे गोइचा ला को बदल दिया है। बावड़ी जल भंडारण प्रणाली थी जिसे पहली बार तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व में बनाया गया था। बावड़ी के अवशेष अभी भी गुजरात में पाए जा सकते हैं।

इस 100 रुपये के नोट के पीछे रानी की वाव या रानी की बावड़ी नामक एक बावड़ी का 11 वीं शताब्दी का चमत्कार है जो उत्तर पश्चिम गुजरात के पाटन नामक एक छोटे से शहर में स्थित है।

Last Final Word

दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल में हमने आपको रानी की वाव के बारे में बताया जैसे की रानी कि वाव का इतिहास, रानी की वाव वास्तुकला – इंजीनियरिंग और कला का एक करतब, रानी की वाव विश्व धरोहर स्थल, रानी की वाव को 100 रुपये के नए नोट पर छापा गया    और सामान्य ज्ञान से जुडी सभी जानकारी से आप वाकिफ हो चुके होंगे।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आसानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते है ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट करके हमे बता सकते है, धन्यवाद्।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement