General Studies

प्लासी का युद्ध

Advertisement

आज हम जानेगे प्लासी के युद्ध के बारें में, भारत पर प्रभुत्व जमाने के लिए ईस्ट इंडिया कंपनी ने कई कूटनीतिक और राजनीतिक युद्ध छेड़े थे। प्लासी की लड़ाई ने भारत पर ईस्ट इंडिया कंपनी का वर्चस्व बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। भारत पर 200 वर्षों तक शासन किया गया था। इस आर्टिकल में हम जानेंगे क्या है प्लासी का युद्ध, जो लॉर्ड रॉबर्ट क्लाइव की यह जीत थी जिसने दक्षिण से मध्य भारत तक ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की। ईस्ट इंडिया कंपनी बंगाल में खुद को स्थापित करने में सक्षम नहीं थी। प्लासी का युद्ध एक मील का पत्थर साबित हुआ जिसने ईस्ट इंडिया कंपनी को भारत में एक मजबूत स्थिति में ला दिया। जिसके कारण ब्रिटिश शासन ने भारत पर 200 वर्षों तक शासन किया। इस आर्टिकल में प्लासी के युद्ध से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है जो आपकी प्रतियोगी परीक्षा में भी उपयोगी होगी।

प्लासी का युद्ध क्या है? (What is the Battle of Plassey?)

यह एक ऐसा युद्ध था जिसने ईस्ट इंडिया कंपनी को बंगाल की राजनीति में दखल देने का मौका दिया। बंगाल के निजाम अलीवर्दी खान बहुत महत्वाकांक्षी थे, 9 अप्रैल को अलीवर्दी खान की मृत्यु हो गई और उन्होंने अपनी छोटी बेटी के बेटे सिराजुद्दौला को अपना उत्तराधिकारी चुना। रॉबर्ट क्लाइव ने उसे एक गुप्त संधि और उसके नवाब बनाने का लालच दिया। बदले में, मीर जाफर ने ढाका, कासिम बाजार और कलकत्ता के किलेबंदी और 1 करोड़ रुपये का वादा किया। इसमें जगत सेठ, राय दुर्लभ और अमीचंद भी साथ आए। प्लासी का युद्ध का जन्म 23 जून 1757 को गंगा नदी के तट पर हुआ था। यह अंग्रेजों और बंगाल के नवाब की सेना के बीच हुआ था। जिसमें अंग्रेजों का नेतृत्व लॉर्ड रॉबर्ट क्लाइव और बंगाल की सेना का नेतृत्व मीर जाफर ने किया था। इस युद्ध में लॉर्ड रॉबर्ट क्लाइव की सेना ने नवाब सिराजुद्दौला की सेना को हराया था। इस नाममात्र के युद्ध में एक बड़े हिस्से ने भाग नहीं लिया। लेकिन आंतरिक कलह के बावजूद सिराजुद्दौला की सेना में मीरमदान और मोहनलाल कार थे जो अंग्रेजों के सामने खड़े थे।

कौन था प्लासी के युद्ध का स्थापक? (Who was the founder of the Battle of Plassey?)

लॉर्ड रॉबर्ट क्लाइव को भारत में ब्रिटिश शासन का संस्थापक माना जाता है। 18 साल की उम्र में उन्हें मद्रास में क्लर्क के पद पर भर्ती कराया गया, जहां से इस ईस्ट इंडिया कंपनी की शुरुआत हुई थी।

Advertisement

सिराजुद्दौला कौन था ? (Who was Siraj-ud-Daulah?)

सिराजुद्दौला को नवाब बनाने के बाद भी उसे कई विरोधियों का सामना करना पड़ा था। उनका सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी (प्रतियोगी) उनकी मौसी का बेटा शौकतगंज था जो पूर्णिया का शासक था। उसने सिराजुद्दौला को हराने के बारे में सोचा लेकिन वह सतर्क था। अलीवर्दी खान ने ही सिराजुद्दौला को अग्रेंजो को बंगाल की राजनीति से दूर रखने के लिए कहा था।

प्लासी का युद्ध क्यों हुआ था? (Why was the Battle of Plassey fought?) 

आधुनिक भारत में इस युद्ध का बहुत महत्व है। इस युद्ध में ईस्ट इंडिया कंपनी ने बंगाल के नवाब को हराकर ब्रिटिश शासन की नींव रखी, इसलिए यह एक महत्वपूर्ण युद्ध है। औरंगजेब की मृत्यु के बाद सभी ने अपने आप को स्वतंत्र घोषित कर दिया।

  • सुविधाओं का दुरूपयोग – अंग्रेज नवाब को बिना पैसे दिए व्यापार करते थे, साथ ही रिश्वत देकर अपना काम भी करवाते थे। पूर्व में अलीवर्दी खान और सिराजुद्दौला ने बाद में इस भ्रष्टाचार को रोकने की कोशिश की और जब अंग्रेजों ने इस पर ध्यान नहीं दिया, तो यह संघर्ष का कारण बन गया था।
  • ब्रिटिश और फ्रांसीसी शत्रुता – अंग्रेजों और फ्रांसीसियों के बीच युद्ध बहुत पुराना था। इससे दक्षिण में भी युद्ध हुए और बंगाल में भी वे आपस में लड़ने को तैयार थे। इसलिए अंग्रेज सिराजुद्दौला को हटाना चाहते थे।
  • सात साल का युद्ध – यूरोप में सात साल का युद्ध शुरू हुआ था। फ्रांसीसियों से सुरक्षा के लिए अंग्रेजों ने नवाब की अनुमति के बिना कीलें बनाना शुरू कर दिया था। नवाब ने उन्हें गिराने का आदेश दे दिया यह इस आदेश के उल्लंघन के कारण विवाद हुआ।
  • शत्रुओं को शरण – शौकत जंग, रैवल्लभ अमीचंद और जगत सेठ नवाब के खिलाफ साजिश कर रहे थे। अंग्रेजों ने उनका साथ दिया और रायवल्लभ के पुत्र ने भारी मात्रा में खजाना लिया और अंग्रेजों की शरण में चले गए थे।

प्लासी के युद्ध में सिराजुद्दौला और अंग्रेजो की लड़ाई (Battle of Siraj-ud-Daula and the British in the Battle of Plassey)

सिराज-उद-दौला ने फोर्ट विलियम को नष्ट करने का आदेश दिया, अंग्रेजों ने इससे इनकार कर दिया। 1756 में सिराजुद्दौला ने गुस्से में हमला किया और 20 जून को उस पर कब्जा कर लिया था। ब्रिटिश सेना ने बंगाल को हथियार दिए, जिसके परिणामस्वरूप अंग्रेजों को बंदी बना लिया गया और इस स्थिति में ब्लैक होल ट्रेडी (The Black Hole Tradegy) ने भी संबंधों को खराब कर दिया।

फोर्ट विलियम में बंद बच्चों, महिलाओं की दम घुटने से मौत हो गई। लॉर्ड क्लाइव को जैसे ही इस बात का पता चला, वे कलकत्ता पहुँचे और रिश्वत के आधार पर मानिकचंद से हुगली पर अधिकार कर लिया और नवाब को अंग्रेजों से समझौता करना पड़ा था।

Advertisement

अलीगढ़ की संधि (Treaty of Aligarh)

9 फरवरी को नवाब सिराजुद्दौला और ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच विवाद हो गया। अंग्रेजों का नेतृत्व वाटसन और क्लाइव ने किया था। कलकत्ता पर अधिकार करने के लिए अंग्रेजों ने एक सन्धि की। मुगल सम्राट के फरमान के अनुसार ईस्ट इंडिया कंपनी को फिर से व्यापार सुविधाएं दी गईं।

  • नवाब को कोलकाता पर अधिकार करने में अंग्रेजों के कारण हुए नुकसान के लिए मुआवजा देना पड़ा।
  • दोनों पक्षों ने भविष्य में शांति बनाए रखने का वादा किया।
  • अंग्रेजों को कोलकाता में सिक्के बनाने का अधिकार मिला।

इस संधि का महत्व इसलिए भी है क्योंकि अंग्रेजों ने अलीनगर की संधि के उल्लंघन के मुद्दे को सिराजुद्दौला के खिलाफ युद्ध का तात्कालिक कारण बताया था।

प्लासी के युद्ध में धोखेबाज कौन था? (Who was the traitor in the Battle of Plassey?) 

क्लाइव को पता चलता है, कि उसकी सेना में एक आदमी है, जो बंगाल को बेच सकता है और अगर वह उसे कुर्सी से फुसलाता है, तो उसे बेच सकता है। वो शख्स थे मीर जाफर, बंगाल का नवाब बनने का उनका सपना था। क्लाइव ने मीर जाफर को एक पत्र लिखा और मीर जाफर को प्रताड़ित किया लेकिन कोई नहीं जानता था कि वह कठपुतली है। कंपनी ने रिश्वत ली और बंगाल को तबाह कर दिया था।

नवाब के साथ साजिश (Conspiracy With the Nawab)

अंग्रेजों की नजर शुरू से ही बंगाल पर थी। बंगाल के उपजाऊ और धनी प्रांत बंगाल पर आक्रमण करके अधिक से अधिक धन अर्जित करना चाहते थे। उसने हिंदू व्यापारियों के साथ मिली भगत की और उन्हें नवाब के खिलाफ भड़काना शुरू कर दिया था।

प्लासी के युद्ध में व्यापार सुविधाए (Trade Facilities at the Battle of Plassey)

मुगल शासक ने अंग्रेजों को मुक्त समुद्री व्यापार करने का आदेश दिया, वे इसका दुरूपयोग करने लगे। इससे उनका निजी व्यवसाय शुरू हो गया, जिससे नवाब को आर्थिक नुकसान हुआ। जब उन्होंने वित्तीय सहायता का बंधन बांधा, तो अंग्रेज युद्ध में चले गए थे।

Advertisement

प्लासी का युद्ध के परिणाम (Consequences of the Battle of Plassey)

  • प्लासी की लड़ाई का परिणाम काफी तेज और स्थिर निकला था। मीर जाफर को बंगाल का नवाब घोषित किया गया।
  • ईस्ट इंडिया कंपनी ने बहुत पैसा दिया और अंग्रेजों को साड़ी की सुविधा मिली, वह एक कठपुतली नवाब थे।
  • इस युद्ध के बाद प्लासी पर ब्रिटिश शाशक का शासन था, इसका भारत पर बहुत बुरा परिणाम हुआ।
  • बंगाल का बहुत शोषण हुआ, इस धन के आधार पर उसने फ्रांसीसियों पर विजय प्राप्त की।

प्लासी युद्ध का लाभ (Advantages of the Battle of Plassey)

बंगाल के नवाब पर प्रभाव क्योंकि शक्ति कंपनी द्वारा दी गई थी। 24 परगना बंगाल के नवाब से श्रद्धांजलि के रूप में पैसा लेकर अंग्रेजों के अधीन आ गए। बंगाल से इतना पैसा मिला कि इंग्लैंड से पैसे मांगने की जरूरत ही नहीं पड़ी। इस पैसे का इस्तेमाल चीन के साथ व्यापार में भी किया जाता था।

रोचक तथ्य (Interesting Fact)

  • बंगाल के नवाब ने 40,000 सैनिकों और 50 फ्रांसीसी तोपों के साथ लड़ाई लड़ी थी।
  • प्लासी का युद्ध गंगा नदी के तट पर लड़ा गया था।
  • ईस्ट इंडिया कंपनी में 1,000 ब्रिटिश और 2,000 भारतीय सैनिक मौजूद थे।
  • मीर जाफर के मूत्र-मीरन ने खुद जफर को मार डाला।
Final Last Word:

यह लेख पढ़ने के बाद आपको यह समज आ चूका होगा की प्लासी का युद्ध क्या हैं?, कौन था प्लासी के युद्ध का स्थापक?, सिराजुद्दौला कौन था?, प्लासी का युद्ध क्यों हुआ था?, प्लासी के युद्ध में धोखेबाज कौन था?, प्लासी के युद्ध में व्यापार सुविधाएं, प्लासी का युद्ध के परिणाम, प्लासी युद्ध का लाभ के बारें में आपको इस आर्टिकल के माध्यम से आपको अच्छे से जानकारी प्राप्त हो गई होगी। हम उम्मीद करते है की हमारे द्वारा शेयर किया गया यह आर्टिकल “प्लासी का युद्ध” आपको पसंद आया होगा, इसे आगे शेयर जरूर करे।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी छात्रों को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement