Career Guide

PGDM क्या है? PGDM कोर्स की पूरी जानकारी

Advertisement

दोस्तों आज हम जानेंगे पीजीडीएम (PGDM) क्या है? क्योकि PGDM कोर्स हर साल उन विद्यार्थियों को एडमिशन दिला रहा है, जो लोग बिसिनेस और मैनेजमेंट फील्ड में अपना भविष्य बनाना चाहते है।  हाल ही के दिनों में, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मेनेजमेंट कोर्स इंडिया में काफी लोकप्रिय बन रहा है। परंतु अन्य प्रान्त की तुलना में देखे तो भारत में व्यापार के कई सारे अवसर है। और आप लोग मेनेजमेंट क्षेत्र में अपना बेस्ट करियर बनाना चाहते है, तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए ही है। आज के इस लेख में हम लोग जानेंगे की PGDM course क्या होता है? और उसके बारे में सभी तरह की जाकारी हम विस्तार से इस आर्टिकल के ज़रिये  देने वाले है, इसीलिए आप इस पोस्ट को लास्ट तक ज़रूर पढ़े।

PGDM क्या है? (What is PGDM) 

PGDM का मतलब पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मेनेजमेंट होता है। यह उन Institutions द्वारा उपलब्ध कराने वाला डिप्लोमा कोर्स है जो के अखिल भारतीय तकनीक शिक्षा परिषद् द्वारा मान्यता प्राप्त है।  PGDM कोर्स का टर्म 2 साल तक का होता है। यदि कोई भी इंस्टिट्यूट एसोसिएशन ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटीज से मान्यता प्राप्त करती है, तो यह PHDM कोर्स को MBA के बराबर माना जाता है। इस कोर्स में विद्यार्थियों को व्यवसाई और मार्केटिंग के बारे में पढाया जाता है। फिर इसको करने के बाद  वित्त, व्यापार, विपणन, (Finance, Business, Marketing,) आदि जैसे सब्जेक्ट में अच्छा पकड़ बना लेते है, और फिर उन सब विषयों में डीप में स्टडी करके मास्टर बन जाते है। PGDM course के सिलेबस को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है की विद्यार्थियों के अंदर ग्लोबल स्केल (वैश्विक स्तर) के skill और CAPABILITY उनके अंदर आजाए।

जरुर पढ़े: PGDCA Course के बारे में पूरी जानकारी

Advertisement

PGDM का फुल फॉर्म क्या होता है? (What is PGDM full form?)

दोस्तों, PGDM का Full Form “पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मेनेजमेंट (Post Graduate Diploma in Management)” होता हे।

PGDM में प्रवेश कैसे प्राप्त करें (How to get Admission in post graduate diploma in management) 

कुछ कॉलेज/यूनिवर्सिटीज आपकी काबिलियत के आधार पर पोस्ट-ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट में एडमिशन देते है देते है। फिर आपको एंट्रेंस एग्जाम में पास होना भी जरुरी है, आप पास होने के बाद आपको नेक्स्ट राउंड के लिए बुलाया जाता है इसमें आपको राइटिंग टेस्ट, ग्रुप डिस्कशन और इंटरव्यू जैसे राउंड आते है। यह सब होजाने के बाद विद्यार्थियों को उनके परर्फमेंस इन के हिसाब के बाद आपका फाइनल एडमिशन दिया जाता है।

PGDM के लिए प्रवेश परीक्षा (Entrance Exam For Post Graduate Diploma In Management)

PGDM Course के लिए लोकप्रिय एंट्रेंस एग्जाम की कुच्छ सूचि निम्नलिखत दी गई है।

  • महाराष्ट्र कॉमन एंट्रेंस टेस्ट (एमएएच-सीईटी)
  • जीएमएसी द्वारा एनएमएटी
  • कॉमन मैनेजमेंट एप्टीट्यूड टेस्ट (CMAT)
  • प्रबंधन योग्यता परीक्षा (एमबीए)
  • जेवियर्स एप्टीट्यूड टेस्ट (XAT)
  • सिम्बायोसिस नेशनल एप्टीट्यूड टेस्ट (SNAP)
  • सामान्य प्रवेश परीक्षा (कैट)

जरुर पढ़े: B.E Course की पूरी जानकारी

Advertisement

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मेनेजमेंट कोर्स के लिए योग्यता (Qualification/Eligibility For Post Graduate Diploma In Management Course)

  • अधिकांश संस्थान मेरिट के आधार पर प्रवेश देते हैं। (Most of the institutes give admission on the basis of merit)
  • लेकिन कुछ विश्वविद्यालय या संस्थान Entrance Test जैसे CAT/ XAT/ GMAT के आधार पर Admission देती है। (But some universities or institutes give admission on the basis of Entrance Test like CAT/ XAT/ GMAT.)
  • PGDM Course को करने के लिए कोई आयु सीमा नहीं है। (There is no age limit for doing PGDM course)
  • CGPA के मामले में, न्यूनतम 6.5 CGPA की आवश्यकता होती है। (In case of CGPA, minimum 6.5 CGPA is required)
  • Graduation के Final Year वाले छात्र भी PGDM Course में Admission ले सकते है। (Students with Final Year of Graduation can also take admission in PGDM Course.)
  • छात्र को किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी स्ट्रीम में स्नातक यानि Bachelor की डिग्री होनी चाहिए। (The student should have a bachelor’s degree in any stream from a recognized university.)
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैनेजमेंट कोर्स में एडमिशन लेने के लिए आपको bachelor डिग्री में कम से कम 50% मार्क्स के साथ पास होना आवश्यक है। (To take admission in Post Graduate Diploma in Management course, you must have passed Bachelor’s degree with at least 50% marks)

PGDM पाठ्यक्रम के विषय (PGDM Course Subjects)

  • अर्थशास्त्र और सामाजिक विज्ञान
  • कूटनीतिक प्रबंधन (Strategic Management)
  • अनुसंधान क्रियाविधि (Research Methodology)
  • व्यापार कानून और कॉर्पोरेट प्रशासन (Business Law & Corporate Governance)
  • अंतरराष्ट्रीय व्यापार (International Business)
  • संगठनात्मक व्यवहार (Organizational Behavior)
  • सांख्यिकी और मात्रात्मक तकनीक (Statistics and Quantitative Techniques)
  • आईटी कौशल लैब (IT Skills Lab)
  • प्रबंधन का सिद्धांत (Management Theory)
  • प्रबंधन सूचना प्रणाली (Management information System)
  • उत्पादन और संचालन प्रबंधक (Production and Operations The Manager)
  • प्रबंधकीय अर्थशास्त्र (Managerial economics)
  • वित्तीय लेखांकन (Financial Accounting)
  • व्यापार नैतिकता और संचार (Business Ethics and Communication)
  • मार्केटिंग की मूल बातें (Basics of Marketing)

जरुर पढ़े: ग्रेजुएशन के बाद क्या करें एमबीए या एमसीए ?

PGDM कोर्स का सिलेबस क्या होता है? (What is the syllabus of PGDM Course)

PGDM Syllabus (Semester – 1) 

संगठनात्मक व्यवहार- I, प्रबंधकीय लेखा और नियंत्रण – I, व्यवसाय संचार, प्रबंधकीय अर्थशास्त्र (सूक्ष्मअर्थशास्त्र), मात्रात्मक तकनीक – I, संचालन प्रबंधन -I

PGDM Syllabus (Semester – 2)

मात्रात्मक तकनीक – II, संगठनात्मक व्यवहार- II, वित्तीय प्रबंधन I, मैक्रोइकॉनॉमिक्स, प्रबंधकीय लेखा और नियंत्रण -II, विपणन प्रबंधन – I

PGDM Syllabus (Semester – 3)

प्रबंधन सूचना प्रणाली (Management Information System), मार्केटिंग मैनेजमेंट- II, रिसर्च मेथड, ऑपरेशंस मैनेजमेंट- II, वित्तीय प्रबंधन – II, मानव संसाधन प्रबंधन

PGDM Syllabus (Semester – 4)

व्यापार पर्यावरण-भारतीय और विश्व अर्थव्यवस्था (Business Environment-Indian And World Economy), कूटनीतिक प्रबंधन (Strategic Management)

Advertisement

PGDM कोर्स की फीस किनी हो सकती है? (What is the fee for Post Graduate Diploma In Management Course?)

Post Graduate Diploma In Management Course की अनादजित फीस 1 लाख से लेकर 15 लाख तक की होती है। और फिर भी यह फीस कॉलेज और यूनिवर्सिटी के पर अधर रख ती है जैसी  कॉलेज में सुविधाए वेसी फीस। यदि फिर आप सरकारी में एडमिशन लेते है तो यही फीस कम हो जाती है उतनी नही चुकानी पड़ती। अगर आप कोई भी कॉलेज या यूनिवर्सिटी में दाखिला लेना चाहते है तो उस कॉलेज या यूनिवर्सिटी की फीस के बारे में ज़रूर पता लगाए।

जरुर पढ़े: MDS कोर्स की पूरी जानकारी

PGDM कोर्स की मुख्य विशेषज्ञता क्या है? 

जैसे की मेने आपसे इस बारे में बताया था की यह एक मास्टर डिग्री कोर्स है, आपलोग इस कोर्स को करने के बाद आप उस सब्जेक्ट में विशेषज्ञान प्राप्त कर लेते है। आपको मेने निचे PGDM कोर्स की कुछ बेस्ट विशेष जानकारी दी हुई है।

  • मार्केटिंग में पीजीडीएम (PGDM in Marketing)
  • वित्त में पीजीडीएम (PGDM in Finance)
  • संचालन प्रबंधन में पीजीडीएम (PGDM in Operations Management)
  • बिजनेस एनालिटिक्स में पीजीडीएम (PGDM in Business Analytics)
  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में पीजीडीएम (PGDM In International Business)
  • जैव प्रौद्योगिकी में पीजीडीएम (PGDM in Biotechnology)
  • व्यापार उद्यमिता में पीजीडीएम (PGDM in Business Entrepreneurship)
  • खुदरा प्रबंधन में पीजीडीएम (PGDM in Retail Management)
  • ई-बिजनेस में पीजीडीएम (PGDM in E-Business)

PGDM कोर्स की अवधि क्या है? (What is the duration of PGDM Course)

PGDM (पोस्ट ग्रेदुएशन डिप्लोमा इन मेनेजमेंट) कोर्स 2 साल का होता है, और इस कोर्स में 4 सेमेस्टर की पढाई करनी होती है। जिसमे हर एक साल में 2 सेमेस्टर होते है।

PGDM कोर्स के फायदे क्या है? (What are the Benefits of PGDM Course)

  • PGDM Course को Distance Mode से भी किया जा सकता है। (PGDM course can also be done through distance mode)
  • आप अपना खुद का व्शुयवसाई शरू कर सकते हैं। (You can start your own business)
  • उच्च अध्ययन (Higher Studies) के लिए PGDM Holders के पास अधिक अवसर होते हैं।
  • इस कोर्स को करने के बाद व्यवसाई क्षेत्र में अनुभवी अच्छा आजता जाता है
  • इस कोर्स को करने के बाद आपके अंदर प्रोफेशनल स्किल्स का विकास होता है।
  • यह कोर्स आपके उद्यमिता की गुणवत्ता को एक बेहतर बनाने में भी मदद करता है।
  • पीजीडीएम कोर्स करने के बाद दूसरे कोर्स के मुकाबले इस कोर्स मे आपको अच्छा प्लेसमेंट का अवसर मिल जाता है।
  • आपके पास बेहतर नौकरी के अवसर होते है।
  • इस कोर्स को करने के बाद, आपको व्यापार के महान अनुभव प्राप्त होते हैं।
  • यह कोर्स MBA की तुलना में कम खर्चीला है और डिग्री को लगभग बराबर माना जाता है।

जरुर पढ़े: बी.टेक कोर्स की पूरी जानकारी

Advertisement

PGDM कोर्स के बाद पगार कितनी होती है? (Salary After PGDM?)

PGDM कोर्स को पूर्ण करने के बाद आपकी एवरेज पगार रुपिए 3,90,000 से लेकर रुपिए 4,30,950 रुपिए प्रति वर्ष तक होता है। यदि आपको 1 साल का नोकरी का अनुभव है तो आपकी एवरेज पगार 2,90,350 रुपिए हर साल होगी। यदि आपको जॉब में अनुभव 1-9 साल का है तो आपकी एवरेज पगार 7,20,510 रुपिए प्रति साल होगा। आपकी आवक भी आपकी नोकरी की स्थिति पर निर्भर करता है।  यदि आप सीनियर बिज़नस एनालिस्ट की जॉब करते है, तो फिर तो आपकी वर्षीया आवक यानीं पगार 9,60,000 प्रति साल होगी। यदि आप ह्यूमन रिसोर्स मेनेजर का कोब करते है, तो आपकी पगार 7,19,000 प्रति साल होगी।

PGDM कोर्स के लिए कुछ आवश्यक कोशल क्या है? (What are some essential skills for PGDM Course)

  • आपके अंदर नेतृत्व करने का समझ होनी चाहिए। (You must have the understanding to lead.)
  • आपके पास प्रबंधन कौशल भी होना चाहिए। (You must also have Management Skills.)
  • आपके अंदर संचार कौशल होनी चाहिए क्यों की कई बार आप अपने ग्राहक से व्यवसाय के बारे में बात कर रहे होते हैं, जिसमें यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि अच्छी तरह से कैसे बात करें।
  • आपकी संचार कौशल अच्छी होनी चाहिए। (Your communication skills should be good.)
  • आपकी प्लानिंग स्किल अच्छी होनी चाहिए। कभी-कभी व्यवसाय के लिए एक अच्छी योजना की आवश्यकता होती है।
  • टीम प्रबंधन कौशल भी महत्वपूर्ण है क्योंकि कभी-कभी आपको एक समूह में काम करना पड़ता है और ऐसी स्थिति में आपको समूह को संभालने के लिए आना चाहिए।

PGDM की मुख्य 5 कॉलेज (Main 5 Colleges of PGDM)

  • भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम), बैंगलोर
  • भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम), लखनऊ
  • एफएमएस दिल्ली – प्रबंधन अध्ययन संकाय, दिल्ली
  • भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएमसी), कोलकाता
  • भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएमए), अहमदाबाद

PGDM के बाद नोकरी और करियर का अवसर क्या होगा? 

PGDM कोर्स को पूर्ण करने के बाद, सरकरी और नॉन सरकारी दोनों फील्ड में बहुत सारे अवसर है। यदि कोई विद्यार्थी रिसर्च या फिर तो एज्युकेशन इंडस्ट्री में जाना चाहे तो वो भी अच्छे से कर सकते है। PGDM कोर्स को करने के बाद अपना प्रोफेसर में भी भविष्य बना सकते है। इन सब के अलावा आप मल्टीनेशनल कंपनी, बैंकिंग सेक्टर, Education Sector, Manufacturing, Factories, Marketing Company, Business Consultant, IT Company और दुसरे कई सारे एसे सेक्टर है जहा आप अपना भविष्य बना सकते है। इन सब के अलावा विद्यार्थी को अपना खुदका व्यवसाई और फ्रीलांसर के आधार पर या फिर एक कंसल्टेंट के आधार पर अपना बेस्ट भविष्य का निर्माण कर सकते है।

जरुर पढ़े: BHMS Course की पूरी जानकारी

Last Final Word :

दोस्तों हम उम्मीद करते है की यह आर्टिकल की जरिये आपको पता चल गा होगा जैसे  की PGDM क्या है? PGDM  का पाठ्यक्रम क्या है?, PGDM की एग्जाम पेटर्न क्या है?, PGDM  की आयु सीमा क्या है?, PGDM की पात्रता माप दंड क्या है?, PGDM  प्रवेश पत्र PGDM की चयन प्रक्रिया, PGDM की  सैलरी और कैरियर से जुडी सभी माहिती से आप वाकिफ हो चुके होंगे।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी करियर & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement