Career Guide

NSG कमांडो कैसे बने?

Advertisement

NSG commando (राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड) राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड भारतीय गृह मंत्रालय के तहत एक आतंकवाद विरोधी इकाई है। राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) की स्थापना 1984 में देश में आतंकवाद के सभी पहलुओं से निपटने के लिए एक संघीय आकस्मिकता परिनियोजन बल (संघीय आकस्मिकता परिनियोजन बल) के रूप में की गई थी। राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) गृह मंत्रालय के तहत भारतीय विशेष बलों की एक विशेष इकाई है। इसका उद्देश्य देश की रक्षा के लिए आतंकवादी गतिविधियों का मुकाबला करना है। NSG कमांडो भारत में सबसे अच्छे कमांडो हैं और यह दुनिया के शीर्ष 5 विशेष बलों में से एक है। NSG कमांडो काली वर्दी में होते हैं और उनकी पोशाक पर काली बिल्ली का प्रतीक होता है। इसलिए एनएसजी कमांडो को ब्लैक कैट कमांडो भी कहा जाता है।

देश की सुरक्षा में NSG commando की अहम भूमिका होती है। भारत में सभी महत्वपूर्ण लोगों और वीआईपी लोगों या मशहूर हस्तियों की सुरक्षा के लिए जो अंगरक्षक हैं, वे वास्तव में NSG कमांडो हैं। खासतौर पर इन कमांडो को आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए तैनात किया जाता है। एक NSG commando ही वह बन सकता है जो देश की सेवा में अपने प्राण न्यौछावर कर सकता है। अगर आप भी एनएसजी कमांडो बनना चाहते हैं, या सोच रहे हैं, तो इस लेख में हम आपको यही बताने जा रहे हैं। तो चलिए जानते है की NSG commando कैसे बनते है।

NSG कमांडो (NSG Commando) का फुल फॉर्म क्या है? 

  • एनएसजी कमांडो का इंग्लिश में फुल फॉर्म National Security Guard होता है।
  • एनएसजी कमांडो का हिन्दी में फुल फॉर्म राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड होता है।

NSG कमांडो क्या है? (What is NSG Commando?)

NSG Commando को ब्लैक कैट (black cat) कमांडो के नाम से भी जाना जाता है। NSG कमांडो वे होते हैं जो हमारे देश के प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए दूसरे VIP व्यक्ति को तैनात किए जाते हैं। इतना ही नहीं, किसी सेलेब्रिटी की सुरक्षा की बात हो या देश की, एनएसजी कमांडो हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहते हैं। एक एनएसजी कमांडो (NSG commando) पर देश को आतंकवाद से बचाने, उसे आतंकवादी हमलों से बचाने की जिम्मेदारी भी होती है। इन कमांडो ने अपने देश की रक्षा के लिए अपनी जान की बाजी लगा दी।

Advertisement

एनएसजी कमांडो को विभिन्न प्रकार का प्रशिक्षण दिया जाता है, जिसमें आतंकवादी हमले की स्थिति में आतंकवादियों को नियंत्रित करने, आतंकवादियों द्वारा अपहृत लोगों को बचाने के साथ-साथ बमों को खोजने और निष्क्रिय करने आदि का प्रशिक्षण शामिल है। NSG commando को आतंकवादियों से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। और बंधक जैसी स्थिति। आपको बता दें, एक और बात एनएसजी कमांडो बनने के लिए सीधी भर्ती नहीं होती है, बल्कि सबसे पहले NSG commando के उम्मीदवार की ट्रेनिंग ली जाती है। मतलब ट्रेनिंग के आधार पर एक एनएसजी कमांडो का चयन किया जाता है।

NSG कमांडो कैसे बने? (How to become an NSG commando?)

एनएसजी कमांडो बनने के लिए सबसे पहले आपको NSG commando की ट्रेनिंग (NSG Commando training) पास करनी होती है। ट्रेनिंग पूरी करने के बाद ही आपको एनएसजी कमांडो बनने का मौका मिलता है। साथ ही एनएसजी कमांडो बनने के लिए कोई सीधी एंट्री नहीं है। अगर आप एनएसजी कमांडो बनना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको डिफेंस ज्वाइन (Defense Join) करना होगा। डिफेंस ज्वाइन (Defense Join) करने के बाद आपके पास एनएसजी कमांडो बनने का विकल्प होता है।

आपको बता दें, एनएसजी (NSG), एसएजी (SAG) और एसआरजी (SRG) (स्पेशल एक्शन ग्रुप और स्पेशल रेंजर ग्रुप) में दो विभाग हैं। यह समूह भारतीय सेना की एक इकाई (Unit) है। अगर आप ASG विभाग में शामिल होना चाहते हैं तो आपको भारतीय सेना में होना चाहिए। अगर आप एसआरजी ग्रुप में प्रवेश लेना चाहते हैं तो आपके लिए पैरामिलिट्री फोर्स (Paramilitary Force) में होना अनिवार्य है।

NSG कमांडो के लिए योग्यता (Qualification for NSG Commando)

NSG commando बनने के लिए सबसे पहले आपको सेना में एक सैनिक या अधिकारी बनना होगा। इसके लिए आपको 10वीं कक्षा या समकक्ष परीक्षा (Equivalent exam) उत्तीर्ण करनी होगी। यह भी जान लें कि, यह योग्यता सभी जाति/श्रेणी के उम्मीदवारों के पास होनी चाहिए। क्योंकि किसी भी जाति के उम्मीदवार को कमांडो बनने में कोई छूट नहीं है। साथ ही सिपाही बनने के लिए आपकी उम्र 18 से 23 साल के बीच होनी चाहिए।

Advertisement

इसके अलावा उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए, जिसकी न्यूनतम ऊंचाई 157 सेंटीमीटर होनी चाहिए। एनएसजी यानी राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (National Security Guard) के रूप में केवल उन्हीं जवानों का चयन किया जाता है जो शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह से स्वस्थ होते हैं। NSG commando बनने के लिए उम्मीदवार के प्रशिक्षण को कई भागों में बांटा गया है, जो इन प्रशिक्षणों में उत्तीर्ण होता है उसे एनएसजी कमांडो (NSG commando) के रूप में चुना जाता है।

NSG कमांडो के लिए ट्रेनिंग 

  • एक NSG commando को विभिन्न प्रकार का प्रशिक्षण (Training) दिया जाता है, जिसमें आतंकवादी हमले की स्थिति में आतंकवादियों को नियंत्रित करने, आतंकवादियों द्वारा अपहरण (Kidnapped) लोगों को छुड़ाने के साथ-साथ बमों को खोजने और निष्क्रिय करने आदि का प्रशिक्षण शामिल है।
  • एनएसजी कमांडो बनने के लिए कई हिस्सों की ट्रेनिंग प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। समय के मुताबिक जवानों को अलग-अलग टारगेट को पूरा करने की ट्रेनिंग दी जाती है। इसके अलावा एनएसजी कमांडो का मानसिक प्रशिक्षण (Training) भी लिया जाता है जो बेहद कठिन होता है, इस प्रशिक्षण में सैनिकों को देश के प्रति अपना सब कुछ समर्पित करने के लिए प्रेरित किया जाता है।
  • वे देश के सबसे बहादुर सैनिक हैं। लेकिन यह जरूरी नहीं है कि ट्रेनिंग सेंटर पहुंचने के बाद भी कोई सैनिक आखिरकार कमांडो ही बने। 90 दिनों की कड़ी ट्रेनिंग से पहले भी एक हफ्ते ऐसी ट्रेनिंग होती है जिसमें 15-20 फीसदी जवान फाइनल रेस में पहुंचने से वंचित रह जाते हैं। लेकिन इसके बाद जो सैनिक बच जाते हैं, अगर वे 90 दिनों की ट्रेनिंग को कुशलता से पूरा कर लेते हैं, तो वे देश के सबसे शक्तिशाली कमांडो बन जाते हैं।
  • सबसे पहले एक शारीरिक और मानसिक परीक्षा होती है। यह 12 सप्ताह तक चलने वाला सबसे कठिन प्रशिक्षण है।
  • शुरुआत में जवानों की फिटनेस क्षमता 30-40 फीसदी होती है, जो ट्रेनिंग खत्म होने तक बढ़कर 80-90 फीसदी हो जाती है।
  • उनके प्रशिक्षण में कठिन व्यायाम किया जाता है ताकि वे शारीरिक रूप से सक्षम बन सकें।
  • जिग-जैग रन का प्रशिक्षण दिया जाता है ताकि किसी भी कठिन परिस्थिति को देखते हुए तत्काल कार्रवाई की जा सकती है।
  • शरीर के ऊपरी हिस्से को मजबूत बनाने के लिए योगासन किया जाता है, जिसमें हाथ को  सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता हैं।
  • 60 मीटर स्प्रिंग दौड़ के लिए केवल 11 से 13 सेकंड का समय दिया जाता है और 100 मीटर स्प्रिंग दौड़ के लिए केवल 15 सेकंड का समय दिया जाता है।
  • प्रशिक्षण को और कठिन बनाने के लिए हाथों में बाहें और पीठ पर भार भी लोड किया जाता है।
  • बंदर की तरह रस्सी के सहारे एक जगह से दूसरी जगह जाना भी कमांडो की ट्रेनिंग का अहम हिस्सा है।
  • इसके बाद बारी आती है पुश-अप्स (Push-Ups) करने की।
  • फिर आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए उन्हें 9 फुट के गड्ढे पर चढ़ना पड़ता है।
  • मिशन पर जाते समय स्थिति से निपटने के लिए हाई बैलेंस भी किया जाता है।
  • समानांतर रस्सी के माध्यम से एनएसजी कमांडो के शरीर (Body) को और भी ज्यादा मजबूत बनाया जाता है।
  • मकड़ी के जाले से ऊपर चढ़ना और फिर दूसरी तरफ से नीचे उतरना हाथों की पकड़ को मजबूत करने का काम करता है।
  • रस्सी के सहारे 26 फीट ऊंची दीवार पर चढ़ना भी जरूरी है। ऊंची दीवार पर चढ़ने का यह अभ्यास पहाड़ पर चढ़ने का एहसास देता है।
  • अगर आप सीधे आसमान से एक कमरे में प्रवेश करना चाहते हैं, तो उसके लिए प्रशिक्षण भी दिया जाता है।
  • इसके बाद कार्रवाई की बारी आती है, भले ही हाथ में कोई हथियार न हो, लेकिन कमांडो के पास दुश्मन को मारने की ताकत होती है।
  • इसमें कई तरह की मार्शल आर्ट भी सिखाई जाती है।
  • इन कमांडो को यह खतरनाक तरीका भी सिखाया जाता है कि कैसे दुश्मन के हाथ से चाकू छीनकर उसका गला काट दिया जाए।
  • विमान के अपहरण की स्थिति से निपटने के लिए एक विशेष प्रकार का प्रशिक्षण भी दिया जाता है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए नकली विमान की मदद से प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • NSG commando को एक गोली से एक की जान लेने की ट्रेनिंग दी जाती है। बल्कि यह कहा जा सकता है, कि आपात स्थिति (Emergency Situation) में ये कमांडो सिर्फ एक गोली चलाकर किसी आतंकी को मार गिरा सकते हैं।
  • इन कमांडो को आँख बंद करके निशाना लगाने, अंधेरे में निशाना लगाने और बहुत कम रोशनी में निशाना लगाने का भी प्रशिक्षण (Training) दिया जाता है।
  • युद्ध आक्रमण बाधा-पाठ्यक्रम और सीटीसीसी आतंकवाद विरोधी कंडीशनिंग पाठ्यक्रम में प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है।
  • एनएसजी कमांडो को आग से लड़ने और गोलियों की बौछार से गुजरते हुए अपने मिशन को पूरा करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।
  • इतना ही नहीं, हथियार के साथ और बिना हथियार दोनों तरह से कॉम्बैट ट्रेनिंग दी जाती है।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ड्राइविंग एनएसजी की सुरक्षा प्रणाली का एक अभिन्न अंग है। उनमें से कुशल ड्राइवरों का चयन करने के लिए एक अलग प्रक्रिया का पालन किया जाता है।
  • इतना ही नहीं, उन्हें हमलावरों से घिरी खतरनाक सड़कों, बारूदी सुरंगों पर ड्राइविंग का प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • देश का एकमात्र राष्ट्रीय बम डाटा सेंटर भी एनएसजी के पास है।
  • इस केंद्र में आतंकवादियों द्वारा किए गए बम विस्फोटों और विभिन्न आतंकवादी समूहों द्वारा हमले के तरीकों पर शोध किया जाता है।
  • एनएसजी को आतंकवादी हमले, बंदियों को छुड़ाने, बमों का पता लगाने और उन्हें निष्क्रिय करने आदि के मामले में आतंकवादियों से निपटने का प्रशिक्षण दिया जाता है।
  • ये कमांडो अंत में एक मनोवैज्ञानिक (Psychologist) जाँच से गुजरते हैं। जिसे पास करना आवश्यक है।
  • हर किसी को ब्लैक कैट कमांडो बनने का मौका नहीं मिलता। इसके लिए आर्मी, पैरा मिलिट्री फोर्स या पुलिस में होना जरूरी है। शारीरिक प्रशिक्षण के लिए आयु
  • वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • प्रशिक्षण के बाद जवानों का परीक्षण किया जाता है, जो सफल होते हैं, उन्हें चयन की मुहर दी जाती है।

एनएसजी कमांडो कहां से आते है? (Where do NSG commandos come from?)

NSG कमांडो का गठन भारत के विभिन्न बलों के विशिष्ट सैनिकों को छांट कर किया जाता है। NSG में 53% कमांडो सेना से आते हैं जबकि 47% कमांडो अर्धसैनिक बलों जैसे CRPF, ITBP, RAF और BSF आदि से आते हैं। इन कमांडो की कार्य सेवा 5 वर्ष मानी जाती है।

NSG कमांडो चयन प्रक्रिया (NSG Commando Selection Process)

एनएसजी कमांड का चयन प्रशिक्षण और कुछ परीक्षणों के माध्यम से किया जाता है। प्रशिक्षण दो चरणों में होता है। पहले प्रशिक्षण में कुछ कठिनाइयों को दूर करना होता है। उसके बाद दूसरे चरण की ट्रेनिंग 3 महीने की होती है। तीन महीने के प्रशिक्षण में जिंदा कारतूसों को अपने फायर प्रैक्टिस में इस्तेमाल करना होता है।

प्रशिक्षण पूरा होने के बाद, कुछ परीक्षण होता है। परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवारों का चयन एनएसजी कमांडो पद के लिए किया जाता है।

एनएसजी कमांडो की वेतन (NSG Commando Salary)

एनएसजी यानी ब्लैक कैट कमांडो की सैलरी उनके अनुभव पर निर्भर करती है। हालांकि एनएसजी कमांडो की सैलरी 84,236 रुपये से 2,39,654 रुपये के बीच हो सकती है। इन एनएसजी कमांडो को 10 हजार से 15 हजार तक का बोनस भी मिलता है। इसके अलावा सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड को अलग से प्रॉफिट शेयरिंग और कमीशन वेतन देती है, यह वेतन अलग-अलग कमांडो के लिए अलग-अलग होता है, जो 2 से 1.25 लाख रुपये तक हो सकता है।

Advertisement

Last Final Word: 

इस आर्टिकल में हमने आपको एनएसजी कमांडो (राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड) के बारे में बताया। जैसे NSG commando क्या है और कैसे बनें? एनएसजी कमांडो बनने की योग्यता और उसका प्रशिक्षण और वेतन आदि। इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद आपको NSG commando के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement