General Knowledge

मानव विकास सूचकांक क्या होता है?

Advertisement

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम मानव विकास सूचकांक के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी प्राप्त करेंगे। आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ना  ताकि हमारी जानकारी आप तक पहुंच सके।

मानव विकास सूचकांक की मदद से देश के मानव विकास को दर्शाया जाता है। मानव विकास सूचकांक से यह मालूम पड़ता है कि कोई देश विकसित है, विकासशील है या फिर अविकसित है। यानी कि मानव विकास को मानव विकास सूचकांक से मापा जाता है। मानव विकास सूचकांक मानव विकास की आधारभुती उपलब्धियों पर आधारित एक साधारण सुमिश्र सूचक के रूप में मापा जाता है। अलग-अलग देशों द्वारा स्वास्थ्य, शिक्षा तथा संसाधनों तक पहुंच के क्षेत्र में किए गए विकास के आधार पर उन्हें श्रेणी प्रदान करता है। इस श्रेणी में 0 से लेकर 1 के बीच में स्कोर दिए जाते हैं। जिस देश की जीवन प्रत्यूषा, शिक्षा और जीडीपी प्रति व्यक्ति ज्यादा होती है उसे उच्च श्रेणी मे रखा जाता है। एक देश को मानव विकास महत्वपूर्ण सुचको मैं अपने रिकॉर्ड से प्राप्त करता है। मानव विकास सूचकांक यूनाइटेड नेशन डेवलपमेंट प्रोग्राम के द्वारा नापा जाता है। जिसका मुख्य कार्यालय न्यूयॉर्क में स्थित है। इसकी स्थापना साल 1965 में की गई थी।

जरुर पढ़ें : जनसँख्या विस्फोट का अर्थ, कारण, परिणाम और उसे रोकने के उपाय

Advertisement

स्वास्थ्य

स्वास्थ्य के सूचक को निर्धारित करने के लिए जन्म के समय के दौरान जीवन प्रत्याशा को चुना जाता है। इसका मतलब है कि लोगों को लंबा और स्वास्थ्य जीवन व्यतीत करने का मौका मिलता है। यानी कि जितनी उच्च जीवन प्रत्याशा होगी उतना ही ज्यादा विकास का सूचकांक बढ़ेगा।

शिक्षा

शिक्षा का अभिप्राय प्रौढ़ साक्षरता दर तथा सफल नामांकन अनुपात से किया गया है। इसका मतलब यह है कि पढ ओर लिख सकने वाले वयस्क की संख्या तथा छात्रालय में नामांकित बच्चों की संख्या ज्यादा होने से शिक्षा का सूचकांक ज्यादा होता है।

संसाधनों तक पहुंच

  • संसाधनों तक पहुंच को अमेरिकी डॉलर में नापा जाता है। सूचकांक निर्मित करने के लिए सबसे पहले प्रत्येक सूचक को न्यूनतम और अधिकतम माप निश्चित किया जाता है।
  • जन्म के समय जीवन प्रत्याशा: 25 साल से लेकर 85 साल
  • सामान्य साक्षरता दर: 0% से लेकर 100%

प्रति व्यक्ति वास्तविक सफल घरेलू उत्पाद

$100 अमेरिकी डॉलर और $400000 अमेरिकी डॉलर मैं से प्रत्येक आयाम को 1/3 भारीता दी जाता है। मानव विकास सूचकांक इन सभी आयामों को दिए गए भारिता का कुल योग दर्शाता है। स्कोर 1 के जितना नजदीक होता है मानव विकास का स्तर उतना ही ज्यादा होता है। इसका मतलब यह है कि 0.983 का स्कोर ज्यादा उच्च स्तर का और 0.268 मानव विकास का सबसे निम्न स्तर माना जाएगा।

जरुर पढ़ें : 500₹ और 2000₹ के आगमन से भारत की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

Advertisement

मानव विकास सूचकांक के 2019 से जुड़े मुख्य तथ्य

  • मानव विकास सूचकांक में साल 2019 में नॉर्वे पहले स्थान पर रहा है। उसके बाद स्विजरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड और जर्मनी ने अपना स्थान बनाया है।
  • एक रिपोर्ट के आधार पर साल 1990 से 2018 में दक्षिण एशिया मानव विकास की प्रगति में सबसे तेजी से बढ़ने वाला विस्तार रहा है और दक्षिण एशिया के बाद पूर्वी एशिया और प्रशांत क्षेत्र में 43% विकास हुआ है।
  • वैश्विक स्तर की बात करें तो 1.3 अरब लोग गरीबी की सीमा में आते हैं। हालांकि गरीबों में से करीबन 661 मिलीयन लोग एशिया और प्रशांत क्षेत्र के हैं। दक्षिण एशिया में दुनिया के 41% लोग गरीबी सीमा के नीचे है।

भारत का प्रदर्शन

भारत में विकास करते हुए 129वा स्थान हासिल किया है। अर्थव्यवस्था में भारत का स्थान वर्ष 2018 में 130 वां और वर्ष 2017 में 13वा था।

भारत के पड़ोसी देशों का प्रदर्शन

  • श्रीलंका = 71
  • चीन = 85
  • भूटान = 134
  • बांग्लादेश = 135
  • म्यांमार = 145
  • नेपाल = 147
  • पाकिस्तान = 152
  • अफगानिस्तान = 170

प्राप्तियां और कमियां

प्राप्तियां

मानव विकास के प्रमुख क्षेत्रों में की गई उन्नति के सूचक के रूप में प्राप्त किया दिखाई जाती है। यह सर्वाधिक विश्वनीय माप नही है।

कमियां

मानव गरीबी सूचकांक मानव विकास सूचकांक से संबंध रखता है और यह मानव विकास में कमियों को नापता है। इनमें कई पक्षों को शामिल किया गया है जैसे कि 40 साल से कम आयु तक जीवित रहने वाले संभाव्यता, प्रौढ़ निरक्षरता दर, स्वच्छ जल तक नहीं पहुंच रखने वाले लोगों की संख्या और कुपोषित बच्चे की संख्या। मानव विकास सूचकांक इन सभी बाबतो को नजर मैं रखते हुए देश में मानव विकास की स्थिति का यथार्थ चित्र सामने रखता है।

Advertisement

जरुर पढ़ें : भूगोल क्या है?

Last Final Word

यह थी मानव विकास सूचकांक के बारे में जानकारी हम उम्मीद करते है की हमारी जानकारी आपको फायदेमंद रही होगी अगर अभी भी आपके मन में इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल हो रहा हो तो हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बताइए। यदि आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे शेर कीजिए।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आसानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते है ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट करके हमे बता सकते है, धन्यवाद्।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement