General Knowledge

लोन के प्रकार

Advertisement

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम भारत देश की बेंक में उपलब्बध विभिन्न प्रकार की लोन के प्रकार के बारे में बात करेंग। हम उम्मीद करते है की हमारी जानकारी आपको फायदेमंद होगी।

हम सब जानते है की लोन जरुरत इंसान को तब पड़ती है जब उसे अपनी कमाई से ज्यादा पैसो की आवश्यकता होती है। भारत में एसी कई साडी बेंक है जो आपको आपकी सहायता के लिए लोन देती है। भारत में SBI, PNB, HDFC, Bank of India और Axis Bank जैसी बड़ी बेंक प्रचलित है, जिसकी शाखा पुरे भारत देश में फैली हुई है। ये सभी बेंक पुरे देश में जरुरत के हिसाब से लोन देती है।

आज के इस आर्टिकल में हम लोम लेने के तरीके, लोन कितने प्रकार की होती है, लोन कितने ब्याज पर मिलती है, लोन लेंने की प्रक्रिया, लोन का अर्थ इत्यादि के बारे में विस्तृत रूप से बात करेंगे।

Advertisement

जरुर पढ़ें : शक और कुषाण शासन काल के दौरान मध्य एशियाई संपर्कों

भारत में कितने प्रकार के लोन उपलब्ध्ध है?

भारत में 8 प्रकार के लोन बेंक के द्वारा दिए जाते है। ये लोन के प्रकार कुछ इस प्रकार हे:

  • पर्सनल लोन
  • गोल्ड लोन
  • सिक्युरिटी के बदले मिलने वाला लोन
  • प्रोपर्टी लोन
  • होम लोन
  • एजुकेशनल लोन
  • वाहन या कार लोन
  • कोर्पोरेट लोन

इसके अलावा 3 प्रकार की और भी लोन होती है जो की अवधि के आधारित दी जाती है, जो निचे बताई गई है।

  • अल्पकालीन लोन : इस लोन में बेंक के द्वारा दिए जाने वाले पैसे को एक साल से कम समय में लौटाने होते है।
  • मध्यकालीन लोन: इस लोन में बेंक के द्वारा दिए जाने वाले पैसे को एक से लेकर तिन साल के अंदर अंदर वापिस करने पड़ते है।
  • दीर्घकालीन लोन: इस लोन में बेंक के द्वारा दिए जाने वाले पैसे को तिन साल से ऊपर के समय में लोटने होते है।

तो चलिए इन सभी लोन के बारे में हम विस्तृत रूप से माहिती प्राप्त करते है।

Advertisement

जरुर पढ़ें : कुषाण वंश के महान राजा कनिष्क

पर्सनल लोन

पर्सनल लोन को गैरजमानती लोन के नाम से भी जाना जाता है। पर्सनल लोन का मतलब खुद के लिए लिए जाने वाला लोन होता है। इस प्रकारे पर्सनल लोन सभी खुदके लिए लेते है परंतु इसका इस्तेमाल सभी अलग अलग प्रकार से करते है, जैसे की कुछ लोग अपने निजी कार्यो के लिए जैसे की बच्चो की स्कूल फीस भरने के लिए, दवा या चिकित्सा के लिए या फिर घर के रोज बरोज की सामग्री लेने के लिए करते है। इसके अलावा अगर किसी को महेंगी गिफ्ट देनी हो तो भी इस लोन का इस्तेमाल करते है।

पर्सनल लोन का ब्याज अलग अलग बेंक में अलग अलग होता है। बेंक खुद अपना ब्याज का दर तय करता है। जैसे की SBIबेंक में लोन के लिए 17.65% वार्षिक ब्याज लिया जाता है, जब की Bank of India में 17.25% ब्याज वसूल लिया जाता है। पर्सनल लोन का ब्याज अन्य प्रकार की लोन के मुकाबले से ज्यादा होता है। पर्सनल लोन लेने के लिए किसी भी प्रकार के डॉक्यूमेंट की जरुरत नहीं पड़ती । यह लोन आपको आपकी salary के हिसाब से दिया जाता है। यह लोन आपको थोड़े समय की जरुरत के लिए लेनी चाहिए। पर्सनल लोन को 4 साल के अंदर अंदर लौटना होता है।

जरुर पढ़ें : दिल्ली सल्तनत: गुलाम वंश का शासन

Advertisement

गोल्ड लोन

इस प्रकार की लोन में बेंक आपके गोल्ड को बेंक में रखने के बदले में आपको पैसे देती है। आपके गोल्ड को बेंक के लोकर में रखा जाता है। गोल्ड लोन आपको आपके गोल्ड की Quality और price पर मिलती है। ज्यादातर बेंक आपको आपके गोल्ड की कीमत के 80% तक का लोन देती है। गोल्ड लोन का इस्तेमाल अधिकत्तर Emergency के लिए करते है। गोल्ड लोन का ब्याज पर्सनल लोन से कम होता है। SBI गोल्ड लोन पर 11.15% वार्षिक ब्याज लेती है।

जरुर पढ़ें : चोल साम्राज्य की प्रशासन और वास्तुकला

सिक्युरिटी के बदले मिलने वाला लोन

इसमे बेंक आपके सिक्युरिटी पेपर को देख कर आपको लोन देती है। यहाँ पर सिक्युरिटी पेपर का मतलब होता है की यदि आपने DEMAT share, mutual funds, insurance schemes, bond में पहेले से ही invest किया है तो उसे security पेपर कहेते है। यदि आप लोन नहीं चूका पते तो बेंक आपके पेपर को बाजार में बेच देता है।

Advertisement

जरुर पढ़ें : कन्नौज त्रिपक्षीय संघर्ष : पाल, प्रतिहार और राष्ट्रकूट

प्रोपर्टी लोन

प्रोपर्टी लोन में आपको आपकी प्रोपर्टी के पेपर को बेंक में गिरवी रखने पड़ती है। आपको इसे 15 वर्ष के अंदर अंदर चुकाने होते है। आपको आपकी प्रोपर्टी के कागजात की 40-60% राशी जितने पैसे लोन के रूप में बेंक के द्वारा प्राप्त होते है।

जरुर पढ़ें : सातवाहन युग

होम लोन

यदि आप घर बनाने के लिए बेंक से लोन लेते है तो उसे होम लोन कहेते है। आप घर बनाने के साथ साथ मकान का रजिस्ट्रेशन, स्टाम्प ड्यूटी इत्यादि के लिए भी ले सकते है। बेंक आपको घर बनाने के कुछ खर्च की 75-85% तक की राशी की लोन दे सकता है। उदहारण के रूप में अगर आपको 6 लाख रुपये की जरुरत है तो आपको 6 लाख का 30% यानि की 1 लाख 80 हजार बेंक को देकर ले सकते है और बाकि के पैसे आपको धीरे धीरे करके चुकाने होते है। होम लोन वापिस करने की अवधि 5 वर्ष से लेकर 20वर्ष की होती है।

जरुर पढ़ें : उत्तर वैदिक काल

एजुकेशन लोन

Advertisement

भारत में इसे कई सारे लोग है जो पढाई में अच्छे है पर उसके पास अच्छी संस्था में पढाई करने के लिए पैसे नहीं है। सभी के पास उतने पैसे नहीं होते। इसी लिए बेंक छात्र की क्षमता की जाँच करने के बाद उसे एजुकेशन लोन देता है। इस प्रकार की लोन के लिए गारंटर की आवश्यकता रहेती है। गारंटर के रूप में छात्र का अभिभावक या रिश्तेदार हो सकता है। वर्तमान समय में SBI बेंक 7.50 lac के लिए 10.85% p.a interest रेट चार्ज कर रही है।

जरुर पढ़ें : गुप्त वंश के बाद के राजवंश

कॉर्पोरेट लोन

जब कोई बड़े खिलाडी जैसे की विजय माल्या, अम्बानी, टाटा , बिरला आदि बेंक से लोन लेते है तो उसे कॉर्पोरेट लोन कहेते है। वर्तमान समय में बेंक अपनी कोर कैपिटल का 55% तक किसी भी एक बड़ी कंपनी को लोन दे सकता है। परंतु लोन वापिस नहीं करने के किस्से ज्यादा होने की वजह से RBI ने प्रस्ताव रखा है की 1 जनवरी 2019 के बाद से बैंक कोर्पेरेट ग्रुप को अपनी कोर कैपीटल का सिर्फ 25% ही दे सकेगी।

जरुर पढ़ें : विदेशी मुद्रा भंडार अर्थ, संरचना, उद्देश्य और लाभ

Last Final Word

दोस्तों यह थी भारत की बेंक में दी जाने वाली सभी प्रकार की लोन के बारे में जानकारी। हम उम्मीद करते है की हमारी जानकारी से आपको फायदा हुआ होगा। यदि आपको कोई सवाल का जवाब चाहिए तो हमें कमेंट के माध्यम से बताइयेगा। धन्यवाद।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आसानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते है ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट करके हमे बता सकते है, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement