General Studies

जम्मू कश्मीर और लद्दाख का भूगोल एवं इतिहास

Advertisement

नमस्कार दोस्तों आज के इस महत्वपूर्ण आर्टिकल में हम आपसे बात करने वाले है जम्मू, कश्मीर और लद्दाख का भूगोल और इतिहास के बारे में। जम्मू, कश्मीर और लद्दाख भारत के उत्तरी भाग में एक संयुक्त राज्य है, जो 395 से 6,910 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह उत्तर में चीन और अफगानिस्तान, पूर्व में चीन और दक्षिण में हिमाचल प्रदेश और पंजाब के भारतीय राज्यों से घिरा है। पश्चिम में यह पाकिस्तान और पंजाब के उत्तर-पश्चिम सीमांत प्रांत से घिरा है।

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के भूगोल पर इतिहास (History on Geography of Jammu Kashmir and Ladakh)

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख वास्तव में तीन अलग-अलग क्षेत्र हैं। जब भारत आजाद हुआ तो धर्म के नाम पर भारत का एक बड़ा हिस्सा अलग हो गया, जिसका नाम पाकिस्तान रखा गया। उस समय पाकिस्तान के दो हिस्से पूर्वी पाकिस्तान और पश्चिमी पाकिस्तान थे। 1971 में पूर्वी पाकिस्तान अलग होकर बांग्लादेश बना।

विभाजन के समय, पाकिस्तानी सेना ने आदिवासियों के साथ मिलकर कश्मीर पर हमला किया और जम्मू-कश्मीर के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया। भारतीय सेना इस हमले का करारा जवाब दे रही थी, लेकिन बीच में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा युद्धविराम की एकतरफा घोषणा के कारण नियंत्रण रेखा का जन्म हो गया। तभी से कश्मीर विवादित क्षेत्र बन गया।

Advertisement

जम्मू-कश्मीर के लगभग आधे हिस्से पर अभी भी पाकिस्तान का कब्जा है। भारत के इस उत्तरी राज्य में 3 क्षेत्र हैं – जम्मू, कश्मीर और लद्दाख। दुर्भाग्य से, भारतीय राजनेताओं ने इस क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति को समझे बिना इसे एक राज्य घोषित कर दिया, क्योंकि ये तीनों क्षेत्र एक ही राजा के अधीन थे। राज्य की घोषणा के बाद, इसका नाम जम्मू और कश्मीर रखा गया जिसमें लद्दाख को ही जम्मू का हिस्सा माना जाता था।

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख राज्य पहले हिंदू शासकों के अधीन थे और बाद में मुस्लिम सुल्तानों के अधीन थे। बाद में यह राज्य अकबर के शासन में मुगल साम्राज्य का हिस्सा बन गया। 1756 से अफगान शासन के बाद 1819 में यह राज्य पंजाब के सिख साम्राज्य के अधीन आ गया। 1846 में, रणजीत सिंह ने जम्मू क्षेत्र को महाराजा गुलाब सिंह को सौंप दिया।

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख का परिचय

जम्मू का परिचय 

भारतीय ग्रंथों के अनुसार जम्मू को दुग्गर प्रदेश कहा जाता है। जम्मू संभाग में 10 जिले हैं। जम्मू, सांबा, कठुआ, उधमपुर, डोडा, पुंछ, राजौरी, रियासी, रामबन और किश्तवाड़। जम्मू का कुल क्षेत्रफल 36,315 वर्ग किमी है। इसके लगभग 13,297 वर्ग किमी के क्षेत्र पर पाकिस्तान का कब्जा है। 1947-1948 के युद्ध के दौरान इस पर कब्जा कर लिया गया था। जम्मू के भींबर, कोटली, मीरपुर, पुंछ हवेली, बाग, सुधांती, मुजफ्फराबाद, हटियान और हवेली जिले पाकिस्तानी कब्जे में हैं। पाकिस्तान जम्मू के इस कब्जे वाले हिस्से को ‘आजाद कश्मीर’ कहता है जबकि उसने कश्मीर के कुछ हिस्सों को दूसरे हिस्सों में बांट दिया है।

Advertisement

कश्मीर का परिचय

जम्मू संभाग का क्षेत्र पीर पंजाल की पहाड़ी श्रृंखला में समाप्त होता है। इस पहाड़ी के दूसरी तरफ कश्मीर है। कश्मीर का क्षेत्रफल लगभग 16,000 वर्ग किमी है। इसके 10 जिले श्रीनगर, बडगाम, कुलगाम, पुलवामा, अनंतनाग, कुपवाड़ा, बारामूला, शोपियां, गांदरबल, बांदीपोरा हैं। सुन्नी, शिया, बहावी, अहमदिया मुस्लिमों के साथ-साथ हिंदू, ज्यादातर गुर्जर, राजपूत और ब्राह्मण यहां रहते हैं। आतंकवाद का प्रभाव केवल कश्मीर घाटी के कश्मीरी भाषी सुन्नी मुसलमानों तक फैला हुआ है।

लद्दाख का परिचय 

लद्दाख एक ऊंचा पठार है, जिसका अधिकांश भाग 3,500 मीटर (9,800 फीट) से ऊपर है। यह हिमालय और काराकोरम पर्वत श्रृंखला और सिंधु नदी की ऊपरी घाटी में फैला हुआ है। 33,554 वर्ग मील में फैले लद्दाख में रहने की जगह बहुत कम है। हर जगह विशाल चट्टानी पहाड़ और मैदान हैं। यहां सभी धर्मों के लोगों की कुल आबादी 2,36,539 है।

ऐसा माना जाता है कि लद्दाख मूल रूप से एक बड़ी झील का जलमग्न हिस्सा था, जो कई वर्षों के भौगोलिक परिवर्तन के कारण लद्दाख की घाटी बन गया। लद्दाख और बाल्टिस्तान को 18वीं शताब्दी में जम्मू-कश्मीर के क्षेत्र में शामिल किया गया था। 1947 में भारत के विभाजन के बाद, बाल्टिस्तान पाकिस्तान का हिस्सा बन गया।

Advertisement

लद्दाख का पूर्वी हिस्सा (Eastern part of Ladakh)

लद्दाख के पूर्वी हिस्से में लेह के आसपास के निवासी मुख्य रूप से तिब्बती, बौद्ध और भारतीय हिंदू हैं, लेकिन पश्चिम में कारगिल के आसपास की आबादी मुख्य रूप से भारतीय शिया मुस्लिम हैं। तिब्बत पर कब्जे के दौरान कई तिब्बती यहां आकर बस गए। चीन लद्दाख को तिब्बत का हिस्सा मानता है। सिंधु नदी लद्दाख से पाकिस्तान में कराची तक बहती है। प्राचीन काल में लद्दाख कई महत्वपूर्ण व्यापारिक मार्गों का प्रमुख केंद्र था।

लद्दाख मध्य एशिया से व्यापार का एक प्रमुख गढ़ था। रेशम मार्ग की एक शाखा लद्दाख से होकर गुजरती थी। सैकड़ों ऊंट, घोड़े, खच्चर, रेशम और कालीन दूसरे देशों से कारवां लेकर लाए जाते थे, जबकि रंग, मसाले आदि भारत से बेचे जाते थे। तिब्बत से भी लोग याक पर ऊन, पश्मीना आदि लादकर लेह आते थे। यहीं से बेहतरीन शॉल कश्मीर लाकर बनाए जाते थे।

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख की जनसंख्या (Population of Jammu and Kashmir)

2011 की जनगणना के अनुसार, जम्मू और कश्मीर की जनसंख्या 1,25,41,302 है। जबकि कश्मीर मुख्य रूप से मुस्लिम है, जम्मू में हिंदू और सिख आबादी है जबकि लद्दाख में बड़ी संख्या में बौद्ध हैं। जम्मू-कश्मीर में रहने वाले लोगों के मूल रूप से राजपूत, गुर्जर, ब्राह्मण, जाट और खत्री समूह हैं, जो हिंदू और मुस्लिम दोनों हैं। दूसरी ओर, लद्दाख में मूल रूप से तिब्बती बौद्धों की एक बड़ी आबादी है। यहां करीब 64 फीसदी मुसलमान, 33 प्रतिशत हिंदू और 3 प्रतिशत बौद्ध, सिख, ईसाई और अन्य वहां रहते हैं। घाटी में 49 फीसदी मुसलमानों में शियाओं की संख्या घटकर 13 फीसदी रह गई है, जबकि हिंदुओं को सुन्नियों ने खदेड़ दिया है। पाकिस्तान के छलावरण (Camouflage) युद्ध और 1989 से जम्मू-कश्मीर राज्य में सुन्नी आतंकवादी हिंसा में 20,000 निर्दोष लोग मारे गए हैं। कश्मीर घाटी और अन्य सीमावर्ती क्षेत्रों से 7 लाख हिंदू और सिख अल्पसंख्यक विस्थापित हुए हैं। उनमें से कुछ जम्मू के शिविरों में और कुछ दिल्ली के शिविरों में शरणार्थियों का जीवन जी रहे हैं।

जम्मू, कश्मीर और लद्दाख का भूगोल (Geography of Jammu, Kashmir and Ladakh)

भारतीय हिमालयी राज्य जम्मू और कश्मीर में वर्तमान में तीन मुख्य भाग हैं – कश्मीर, जम्मू और लद्दाख। इसमें अक्साई चिन भी जोड़ा जाता है। तीनों भागों पर प्राचीन और मध्यकाल में अलग-अलग राजाओं का शासन रहा है। एक समय था जब इस पूरी भूमि पर केवल एक राजा का शासन था।

भौगोलिक स्थिति के संदर्भ में, जम्मू और कश्मीर में 5 समूह हैं। जम्मू, कश्मीर और लद्दाख भारत के उत्तरी भाग में एक संयुक्त राज्य है, जो 395 से 6,910 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह उत्तर में चीन और अफगानिस्तान, पूर्व में चीन और दक्षिण में हिमाचल प्रदेश और पंजाब के भारतीय राज्यों से घिरा है। पश्चिम में यह पाकिस्तान और पंजाब के उत्तर-पश्चिम सीमांत प्रांत से घिरा है। इसका क्षेत्रफल 2,22,236 वर्ग किमी है। यहां 2 राजधानियां हैं – ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर है और शीतकालीन राजधानी जम्मू है। वर्तमान में लद्दाख का हिस्सा 58 प्रतिशत, जम्मू का 26 प्रतिशत और कश्मीर का 16 प्रतिशत है। इसमें से कश्मीर और जम्मू का कुछ हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे में है।

Advertisement

जम्मू का प्राचीन इतिहास (Ancient History of Jammu)

ऐसा माना जाता है, कि कश्यप सागर (कैस्पियन सागर) और कश्मीर का प्राचीन नाम ऋषि कश्यप के नाम पर पड़ा था। शोधकर्ताओं के अनुसार ऋषि कश्यप के कुल के लोगों का शासन कैस्पियन सागर से लेकर कश्मीर तक फैला हुआ था। ऋषि कश्यप का इतिहास प्राचीन माना जाता है। कैलाश पर्वत के चारों ओर भगवान शिव के गणों की शक्ति थी। उक्त क्षेत्र में दक्ष राजा का भी साम्राज्य था। जम्मू का उल्लेख महाभारत में भी मिलता है। जम्मू के प्राचीन इतिहास का पता हाल ही में हड़प्पा के अखनूर के अवशेषों और मौर्य, कुषाण और गुप्त काल की कलाकृतियों से लगाया गया है।

कहा जाता है कि ऋषि कश्यप कश्मीर के पहले राजा थे। उन्होंने कश्मीर को अपने सपनों का राज्य बनाया। नागों का जन्म उनकी एक पत्नी कद्रू के गर्भ से हुआ था, जिनमें से आठ प्रमुख थे – अनंत (शेष), वासुकी, तक्षक, कर्कोटक, पद्म, महापद्म, शंख और कुलिका। इससे नागवंश की स्थापना हुई। आज भी कश्मीर में जगहों के नाम इन्हीं नागों के नाम पर हैं। कश्मीर का अनंतनाग नागवंशियों की राजधानी थी।

राजतरंगिणी और नीलम पुराण की कथा के अनुसार कश्मीर की घाटी एक बहुत बड़ी झील हुआ करती थी। ऋषि कश्यप ने यहां से पानी निकाला और उसे एक खूबसूरत प्राकृतिक स्थान में बदल दिया। इस प्रकार कश्मीर की घाटी अस्तित्व में आई। हालांकि, भूवैज्ञानिकों के अनुसार, खडियार, बारामूला में पहाड़ों के धंसने के कारण झील का पानी बह गया और इस तरह कश्मीर में रहने योग्य स्थान बन गया। राजतरंगिणी 1184 ईसा पूर्व से राजा गोनंद से लेकर राजा विजय सिंह (1129 ई.) तक के कश्मीर के प्राचीन राजवंशों और राजाओं का एक प्रामाणिक दस्तावेज है।

कश्मीर का प्राचीन इतिहास (Ancient History of Kashmir)

ईसा पूर्व तीसरी शताब्दी में महान सम्राट अशोक ने कश्मीर में बौद्ध धर्म का प्रचार किया। बाद में यहां कनिष्क का अधिकार था। कनिष्क के समय श्रीनगर के कुंडल वन विहार में प्रसिद्ध बौद्ध विद्वान वसुमित्र की अध्यक्षता में सर्वस्तिवाद परंपरा की चौथी बौद्ध महासंगीत का आयोजन किया गया था। छठी शताब्दी की शुरुआत में, हूणों ने कश्मीर पर अधिकार कर लिया। 530 में, कश्मीर घाटी एक स्वतंत्र राज्य बना रहा। इसके बाद इस पर उज्जैन साम्राज्य के राजाओं का शासन रहा। एक समय था जब उज्जैन अखंड भारत की राजधानी हुआ करती थी।

विक्रमादित्य वंश के पतन के बाद, स्थानीय शासकों ने कश्मीर पर शासन करना शुरू कर दिया। वहां हिंदू और बौद्ध संस्कृतियों का मिश्रित रूप विकसित हुआ। छठी शताब्दी में कश्मीर में अपनी तरह का शैववाद विकसित हुआ। वसुगुप्त के सूक्तों का संकलन ‘स्पन्दकारिका‘ इसका प्रथम प्रामाणिक ग्रन्थ माना जाता है। शैव राजाओं में सबसे पहला और प्रमुख नाम मिहिरकुल का है जो हूण वंश के थे।

हूण वंश के बाद गोनंदा द्वितीय और कर्कोटा नाग वंश का शासन था, जिसके राजा ललितादित्य मुक्तपीड कश्मीर के महानतम राजाओं में शामिल हैं। ललितादित्य (697 से 738 ईस्वी) कश्मीर के हिंदू राजाओं में सबसे प्रसिद्ध थे, जिनका राज्य पूर्व में बंगाल, दक्षिण में कोंकण, उत्तर-पश्चिम में तुर्किस्तान और उत्तर-पूर्व में तिब्बत तक फैला हुआ था।

जम्मू और कश्मीर विकास वर्ष (Developmental Year)

  • अखिल जम्मू और कश्मीर राष्ट्रीय सम्मेलन – संकल्प – संविधान सभा का संविधान वयस्क मताधिकार – भारत के साथ इसके विलय सहित अपनी भविष्य की स्थिति और संबद्धता का निर्धारण करने के लिए – एक संविधान बनाने के लिए – अक्टूबर 1950।
  • चुनाव के बाद संविधान सभा का गठन किया गया – सितंबर 1951।
  • ऐतिहासिक दिल्ली समझौता – कश्मीरी नेताओं और भारत सरकार के बीच संवैधानिक संबंधों की गतिशील प्रकृति – जम्मू और कश्मीर राज्य और भारत संघ – ने भारत में इसके प्रवेश की पुष्टि की – 24 जुलाई 1952।
  • जम्मू और कश्मीर का संविधान – संविधान सभा द्वारा अपनाया गया – नवंबर 1956 – लागू हुआ – 26 जनवरी 1957।
  • नेशनल कांफ्रेंस ने राज्य में पहला आम चुनाव कराया, शेख अब्दुल्ला के नेतृत्व में लोकप्रिय सरकार की स्थापना की – मार्च 1957।
  • राज्य विधायिका ने सर्वसम्मति से चुनाव आयोग और भारत के सर्वोच्च न्यायालय के अधिकार क्षेत्र को जम्मू और कश्मीर राज्य तक विस्तारित करने के लिए राज्य के संविधान में संशोधन करने का निर्णय लिया – 1959।
  • राज्य में दूसरे आम चुनाव हुए – शेख अब्दुल्ला फिर से चुने गए – 1962।
Last Final Word:

तो दोस्तों हमने आज के इस आर्टिकल में आपको जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के भूगोल पर इतिहास, लद्दाख का पूर्वी हिस्सा (Eastern part of Ladakh), जम्मू और कश्मीर की जनसंख्या, जम्मू, कश्मीर और लद्दाख का भूगोल, जम्मू का प्राचीन इतिहास, कश्मीर का प्राचीन इतिहास, जम्मू और कश्मीर विकास वर्ष इस बारे में हमने विस्तार से बताया है। तो हम उम्मीद करते हैं कि आप इन सभी जानकारियों से वाकिफ होंगे और आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

Advertisement

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी छात्रों को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement