General Knowledge

भारतीय रेल में सर्वप्रथम GK नोट्स

Advertisement

नमस्कार दोस्तों! अगर आप रेलवे एग्जाम की तैयार कर रहे हो तो यह आर्टिकल आपके लिए ही तैयार किया गया हे। वेसे देखा जाये तो आजकल हर तरह की Competitive Exams में अकसर भारतीय रेलवे से जुड़े सामान्य ज्ञान के सवाल जवाब पूछे जाते हे, उसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने आपके लिए भारतीय रेल में सर्वप्रथम GK नोट्स लेकर आये हे।

भारतीय रेल में सर्वप्रथम:

  • भारत में रेलगाड़ी का प्रथम इंजन – थॉमसन इंजन (स्‍टैण्‍डर्ड गेज), 22 दिसम्‍बर, 1851 को रूड़की (वर्तमान उत्‍तराखण्‍ड) में चलाया गया।
  • प्रथम रेलगाड़ी – 16 अप्रैल, 1853 को मुम्‍बई (अब छत्रपति शिवाजीटर्मिनल सीएसटी) से थाणे के मध्‍य
  • सर्वप्रथम मोनोरेल – सरहिन्‍द से आलमपुर तथा भवानी मण्‍डी से पटियाला के मध्‍य 1907 में
  • प्रथम मेट्रो – 24 अक्‍टूबर, 1850; बोरीबन्‍दर
  • सर्वप्रथम कम्‍प्‍यूटरीकृत यात्री आरक्षण व्‍यवस्‍था – 15 नवम्‍बर, 1984  नई दिल्‍ली
  • सर्वप्रथम ब्रॉडगेज सुपर फास्‍ट ट्रेन – नई दिल्‍ली से हावड़ा के बीच राजधानी एक्‍सप्रेस (1 मार्च, 1969)
  • सर्वप्रथम मीटर गेज पर चलने वाली सुपरफास्‍ट एक्‍सप्रेस रेलगाड़ी – 17 अक्‍टूबर, 1981 नई दिल्‍ली से जयपुर, पिंक सिटी एक्‍सप्रेस
  • सर्वप्रथम नैरोगेज की सुपरुास्‍ट ट्रेन – 9 अगस्‍त, 1996 कालका-शिमला के मध्‍य ‘शिवालिक डीलक्‍स एक्‍सप्रेस। इसे नैरोगेज की शताब्‍दी एक्‍सप्रेस भी कहते हैं।
  • सर्वप्रथम सबसे लम्‍बी रेलवे सुरंग – 5 जुलाई, 1982 मंकी हिल से खण्‍डाला स्‍टेशन
  • सर्वप्रथम टिकट की शुरूआत – 1854 ई. मध्‍य रेलवे
  • सर्वप्रथम महिला रेलवे कुली स्‍टेशन – पश्चिम रेलवे के भावनगर मण्‍डल के भावनगर टर्मिनल पर कार्यरत
  • यूनियन ऑफ इण्‍टरनेशलन रेलवे (UIC) की कार्यकारी परिषद में नियुक्‍त होने वाले प्रथम भारतीय – श्री आर. के. सिन्‍हा
  • सबसे पुराना रेल पुल – मुम्‍बई-कल्‍याण सेक्‍शन का थाणे, क्रीक रेल पुल, निर्माण 1852-53
  • सबसे पुराना संस्‍थान – आसनसोल का डूरण्‍ड संस्‍थान (1878 ई.) वर्तमान में विवेकानन्‍द संस्‍थान
  • सर्वप्रथम जनता एक्‍सप्रेस रेलगाड़ी – जनता एक्‍सप्रेस 15 नवम्‍बर, 1948 पटना से दिल्‍ली
  • भारत में सर्वप्रथम ट्राम कार सेवा – सियालदह से अरमेनियम घाट के बीच कोलकाता में 24 फरवरी, 1873
  • सर्वप्रथम सिग्‍नल प्रणाली की शुरूआत – 1894 ई.
  • प्रथम ISO : 2000 प्रमाणपत्र प्राप्‍त करने वाला रेल कारखाना – पोनमलै (गोल्‍डन रॉक) 1996 में
  • यात्री रेलगाडि़यों में सर्वप्रथम CBC कपलिंग का उपयोग – प्रयागराज एक्‍सप्रेस
  • मोबाइल फोन के द्वारा सर्वप्रथम आरक्षण – नई दिल्‍ली (9 सितम्‍बर, 2004)
  • प्रथम डाक टिकट – 10 दिसम्‍बर, 1936 को किंग जॉर्ज- IV ने भाप इंजन 4AS का टिकट जारी किया।
  • सर्वप्रथम पोस्‍ट ऑफिस – सन् 1870में ईस्‍ट इण्डियन रेलवे द्वारा सर्वप्रथम चलित पोस्‍ट ऑफिस रेलगाड़ी में लगाया गया।
  • सर्वप्रथम ISO : 9001 प्रमाणपत्र प्राप्‍त करने वाला रेल प्रशासकीय कार्यालय – मध्‍य भारत (वर्ष 2003 में)
  • प्रथम चल टिकट वाहन की सुविधा – पश्चिम मध्‍य रेलवे भोपाल और कटनी स्‍टेशनों पर
  • देश का पहला ISO : 9001-2000 प्रमाणित स्‍टेशन – मध्‍य रेलवे में भोपाल मण्‍डल में हबीबगंज रेलवे स्‍टेशन
  • पहला आरक्षण केन्‍द्र, जिसे ISO प्रमाणपत्र दिया गया – मध्‍य रेलवे का छत्रपति शिवाजी टर्मिनल, बम्‍बई
  • सर्वप्रथम डीलक्‍स ट्रेन – डेक्‍कन क्‍वीन (1 जून, 1930)
  • सर्वप्रथम रेल दुर्घटना – 25 जनवरी, 1869 (पूना-बम्‍बई मार्ग)
  • सर्वप्रथम पूर्णतया अनारक्षित एक्‍सप्रेस रेलागाड़ी – जनसेवा एक्‍सप्रेस 6 जुलाई, 1995 सूरत व वाराणसी के मध्‍य
  • सर्वप्रथम संचार सेवा हेतु ऑप्टिकल फाइबर केबिल का उपयोग – चर्चगेट-विरार रेलखण्‍ड के मध्‍य
  • सर्वप्रथम ‘लाकर्स ऑन ह्वील्‍स’ की सुविधा – नई दिल्‍ली-लखनऊ के मध्‍य चलने वाली शताब्‍दी एक्‍सप्रेस में
  • सर्वप्रथम पर्यटन रेलगाड़ी – पैलेस आन ह्वील्स, 1982
  • सर्वप्रथम वातानुकूलित रेलगाड़ी – 1936 में बम्‍बई और बड़ौदा
  • सर्वप्रथम कम्‍प्‍यूटरीकृत सीजन टिकट की शुरूआत – मध्‍य रेलवे और बम्‍बई
  • प्रथम रेल पटरी का निर्माण – भारतीय रेल इस्‍पात प्राधिकरण के भिलाई संयन्‍त्र में
  • सर्वप्रथम राजधानी एक्‍सप्रेस की शुरूआत – 1 मार्च, 1969 नई दिल्‍ली से हावड़ा
  • स्‍वदेश निर्मित सर्वप्रथम रेल डिब्‍बा – 2 अक्‍टूबर, 1955
  • सर्वप्रथम मीटर गेज रेल प्रणाली की शुरूआत – 14 फरवरी, 1873 को राजपूताना-मालवा रेलवे द्वारा दिल्‍ली-रेवाड़ी के मध्‍य
  • सर्वप्रथम तत्‍काल आरक्षण सेवा – 20 दिसम्‍बर, 1997 नई दिल्‍ली अमृतसर शताब्‍दी एक्‍सप्रेस
  • सर्वप्रथम कम्‍प्‍यूटरीकृत अनारक्षित टिकट प्रणाली (UTS) – 15 अगस्‍त, 2002 नई दिल्‍ली रेलवे स्‍टेशन
  • सर्वप्रथम टिकट का आरक्षण – 17 अप्रैल, 1853 बम्‍बई-थाणे के मध्‍य बोरीबन्‍दर (छत्रपति शिवाजी टर्मिनल)
  • प्रथम रेल मन्‍त्री स्‍वतन्‍त्रता पूर्व – आसफअली (2/6/1946 से 14/8/1974)
  • प्रथम रेल मन्‍त्री स्‍वतंत्रता पश्‍चात – डॉ. जॉन मथाई (15/8/1947 से 22/9/1948)
  • प्रथम ‘क्‍लीन ट्रेन स्‍टेशन’ – पश्चिम रेलवे का रतलाम रेलवे स्‍टेशन
  • रेलों में घटित होने वाले अपराधों एवं भ्रष्‍टाचार के प्रति प्रभावी रोकथाम करने हेतु योजना – वर्ष 2005 में रेल दूत योजना
  • SMS के द्वारा प्रथम रेल आरक्षाण – भारतीय रेल खान-पान तथा पर्यटन निगम (IRCTC) द्वारा आइडिया ऑपरेटर के द्वारा महाराष्‍ट्र, गोवा, गुजरात, आन्‍ध्रप्रदेश, दिल्‍ली तथा रिलायंस इन्‍फोकाम द्वारा सभी सर्कल में; 26 अगस्‍त, 2005
  • सर्वप्रथम ऑनलाईन (इंटरनेट) आरक्षण टिकट बुकिंग -3 अगस्‍त, 2002; IRTC का नई दिल्‍ली स्थित कार्यालय
  • प्रथम रेलवे ओवर ब्रिज – 1966 में बम्‍बई में ग्रांट रोड, मिरगाँव बैंक रोड
  • भारतीय रेल के जनक – नाना शंकर सेट (प्रथम भारतीय निदेशक)
  • सबसे बड़ा इण्‍टरचेंज रेलवे जंक्‍शन – मुगलसराय
  • विश्‍व विरासत रेलवे स्‍टेशन भवन – छत्रपति शिवाजी टर्मिनल
  • रेलों द्वारा माल ढुलाई में सर्वाधिक ढुलाई – कोयला
  • प्रथम विद्युत रेलगाड़ी तथा उसके प्रथम मोटरमैन – भारत एवं एशिया के प्रथम मोटरमैन श्री जहाँगीर प्रेजमी दारूवाला थे।
  • सर्वप्रथम इण्‍टरनेट वेबसाइट – 31 मार्च, 1998; पश्चिम रेलवे
  • सर्वप्रथम AC विद्युत रेल इंजन – नाम ‘जगजीवन’; इसे 1 जनवरी, 1959 को आसनसोल में चलाया गया।
  • बिजली से चलने वाली प्रथम रेलगाड़ी – 3 फरवरी, 1925; बाम्‍बे वीटी से कुर्ला

Final Last Word:

भारतीय रेल में सर्वप्रथम सामन्य ज्ञान नोट्स पढ़े और याद रख लीजिये आपकी आने वाली रेलवे एग्जाम के लिए बहोत उपयोगी होगा।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्सेय ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

Advertisement

आपको यह जानकारिय अछी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement