General Knowledge

दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा हीरा जैकब डायमंड

Advertisement

नमस्कार दोस्तों! दिल्ली के नेशनल म्यूजियम मे हैदराबाद के निजाम की ज्वैलरी की प्रदर्शन लगाई गई है। निजाम की ज्वैलरी के इस प्रदर्शन में 173 प्रकार के कीमती ज्वैलरी और हीरे रखे गये है। इस कलेक्शन में एक ऐसा बेश कीमती हीरा है, जो कोहिनूर हीरे की तरह ही है। यह हीरा दुनिया के सबसे बड़ी हिरा में आता है। इस हीरे का नाम जैकब डायमंड है और यह कोहिनूर हीरे से भी बड़ा है। जैकब डायमंड इतिहास में दो बार एक जगह से दूसरी जगह पर गया है। जैकब डायमंड अफ्रीका खान में मिला था फिर यह हिरा भारत आया और यहाँ से कई ही नही गया है। और आखिर में इस हीरे को भारत सरकार ने अपने अधीन कर लिया।

जैकब डायमंड का इतिहास 

1891 की साल में एक हीरे की खान में निकला हीरा एलेग्जंडर मल्कोल्म जैकब को मिला था वह ऐसे इंसान की तलाश में था जो हीरे के बदल मु मांगी कीमत दे। खरीददारी की तलाश में जैकब भारत पहुच गया वहा जैकब को एक व्यक्ति से पता चला की हैदराबाद के निजाम को हीरे जवाहरात खरीद ने का बहुत शोख था।

जैकब डायमंड को बेचने के लिए हैदराबाद के निजाम के दरबार में पहुचा। जैकब ने हीरे के बारे में बताया और जैकब डायमंड की कीमत 1 करोड़ से अधिक रखी गई। निजाम ने हीरे की कीमत कम कर ने की मांग की, निजाम ने जैकब डायमंड की कीमत 40 लाख रुपे रखी और इस बातचीत के दौरान हीरे की कीमत 46 लाख रुपए रखी गई थी। जैकब ने हीरे को भारत में लाने के 23 लाख रूपये निजाम से मांगे।

Advertisement

निजाम पुरे 23 लाख रूपये जैकब को दिए फिर जैकब डायमंड भारत आया। लेकिन उस समय निजाम ने जैकब डायमंड को खरीद ने के लिए मना कर दिया और उन्हों ने अपने पैसे वापस करने की मांग की जैकब ने पैसे वापस देने से इनकार कर दिया। जैकब और निजाम का मुकदमा कलकता के हाईकोट में चला था। कलकता की हाईकोट ने हीरे को निजाम को देने का फैसला किया और निजाम को जैकब के बाकि के रूपये देने के लिए खा गया था।

लेकिन निजाम को इस हीरे में ज्यादा रूचि शरू से नही थे। निजाम की मृत्य के कुछ वर्ष बाद उनके बेटे ओसमान अली खान को निजाम के जूते केंदर यह हीरा मिला। और फिर इस हीरे को ओसमान ने एक जवेरी को दिखाया तभी इस हीरे की एसली कीमत मालूम पड़ी। उन्हों नए इस हीरे को निजाम के खजाने में सभाल कर रखदिया था।

इस तरह बहुत से मुक़दमे के बाद भारत ने इस हीरे को 1995 की साल में 13 मिलियन में खरीद लिया गया था। भारत सरकार ने निजाम के दुसरे आभुशानो को भी खरीद लिया एवं उन्हे रिजर्व बैंक की तिजोरी में संभालकर रखा गया है। 2001 के समय दौरान निजाम ज्वैलरी प्रदर्शन में राखा गया था।जैकब का यह हीरा लोगो के आकर्षण का मुख्य केंद्र रहा था।

जैकब डायमंड का आकार

यह हीरा 39.5 मिलीमीटर लंबा एवं 29.25 मिलीमीटर चौड़ा एवं 22.5 मिलीमीटर गहरा है। इस हीरे का वजन तक़रीबन 184.75 कैरट (36.90 ग्राम) है। तय किये गए अकार में इस हीरे की कटाई हुई है और इस हीरे के 58 पहलु है। इह हीरे की कटाई करने के लिए यूरोप में भेजा गया था उस से पहले का वजन बिकते 400 कैरट था।

Advertisement
Last Final Word

दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल में हमने आपको दुनियाँ का पाँचवा सबसे बड़ा हीरा “जैकब डायमंड” के बारे में बताया जैसे की जैकब हीरे का इतिहास और जैकब हीरे का आकार एवं सामान्य ज्ञान से जुडी सभी जानकारी से आप वाकिफ हो चुके होंगे।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आसानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते है ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट करके हमे बता सकते है, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement