General Studies

छत्रपति संभाजी महाराज का इतिहास

Advertisement

नमस्कार दोस्तों आज के इस महत्वपूर्ण आर्टिकल में हम जानेंगे छत्रपति संभाजी महाराज का इतिहास और छत्रपति संभाजी महाराज से जुडी सारी जानकारी। शिवाजी के पुत्र के रूप में विख्यात संभाजी महाराज का जीवन भी अपने पिता छत्रपति शिवाजी महाराज की तरह देश और हिंदुत्व के प्रति समर्पित रहा। छत्रपति संभाजी महाराज ने बचपन से ही राज्य की राजनीतिक समस्याओं का समाधान किया था, और इन दिनों मिले शिक्षा-दीक्षा के साथ-साथ मिले संघर्ष के कारण बाल शंभुजी राजे कालांतर में वीर संभाजी राजे बन सके।

छत्रपति संभाजी महाराज का जन्म और शिक्षा (Chhatrpati Sambhaji Maharaj Birth and Education)

छत्रपति संभाजी महाराज का जन्म 14 मई 1657 को पुरंदर किले में हुआ था। लेकिन जब संभाजी 2 साल के थे, तब तक साईबाई की मृत्यु हो चुकी थी, इसलिए संभाजी का लालन-पालन शिवाजी की माता जीजाबाई ने किया था। छत्रपति संभाजी महाराज को छाव भी कहा जाता था, जिसका मराठी में अर्थ होता है, शावक यानी शेर का बच्चा। संभाजी महाराज संस्कृत और 8 अन्य भाषाओं के ज्ञाता थे।

संभाजी परिवार (Sambhaji Family)

Advertisement

संभाजी राजा वीर छत्रपति शिवाजी के पुत्र थे, संभाजी की माता का नाम साईबाई था। वह छत्रपति शिवाजी की दूसरी पत्नी थीं। संभाजी राजे के परिवार में पिता शिवाजी और माता साईबाई के अलावा दादा शाहजी राजे, दादी जीजाबाई और भाई-बहन थे। शिवाजी की 3 पत्नियाँ थीं – साईबाई, सोयराबाई और पुतलाबाई

साईबाई के पुत्र संभाजी राजे थे। संभाजी का एक भाई राजाराम छत्रपति भी था, जो सोयराबाई का पुत्र था। इसके अलावा संभाजी की शकुबाई, अंबिकाबाई, रानूबाई जाधव, दीपा बाई, कमलाबाई पालकर, राजकुमारबाई शिर्के नाम की बहनें थीं। संभाजी का विवाह येसुबाई से हुआ था और उनके पुत्र का नाम छत्रपति साहू था।

छत्रपति संभाजी महाराज के पिता के साथ कड़वे संबंध (Sambhaji’s Bitter Relationship with Father)

संभाजी का बचपन कई मुश्किलों और विषम परिस्थितियों से गुजरा था। संभाजी की सौतेली माँ सोयराबाई का इरादा अपने बेटे राजाराम को शिवाजी का उत्तराधिकारी बनाना था। सोयराबाई के कारण संभाजी और छत्रपति शिवाजी के संबंध बिगड़ने लगे थे। संभाजी ने भी कई मौकों पर अपनी वीरता दिखाई, लेकिन शिवाजी और उनके परिवार को संभाजी पर विश्वास नहीं हुआ। ऐसे में एक बार शिवाजी ने संभाजी को दंडित किया, लेकिन संभाजी बच गए और मुगलों में शामिल हो गए थे। शिवाजी के लिए यह समय सबसे कठिन समय था। बाद में जब संभाजी ने हिन्दुओं के प्रति मुगलों के अत्याचारों को देखा, तो उन्होंने मुगलों का साथ छोड़ दिया, अपनी गलती का एहसास किया और माफी मांगने के लिए शिवाजी के पास लौट आए।

कवि कलशो के साथ संभाजी की मित्रता (Sambhaji’s friendship with the poet Kalash) 

बचपन में, जब संभाजी मुगल शासक औरंगजेब की कैद से भाग निकले थे, तो वे अपने निर्वासन के दौरान शिवाजी के दूर के मंत्री रघुनाथ कोर्डे के दूर के रिश्तेदार के साथ कुछ समय तक रहे। वहां संभाजी करीब 1 से डेढ़ साल तक रहे, फिर संभाजी कुछ समय तक ब्राह्मण बच्चे के रूप में रहे। इसके लिए उनका उपनयन संस्कार भी मथुरा में कराया गया और उन्हें संस्कृत की शिक्षा भी दी गई। इस दौरान संभाजी का परिचय कवि कलश से हुआ। संभाजी के उग्र और विद्रोही स्वभाव को कवि कलश ही संभाल सकते थे।

Advertisement

छत्रपति संभाजी महाराज द्वारा लिखी रचनाये

कलश के संपर्क और मार्गदर्शन से संभाजी की साहित्य में रुचि बढ़ने लगी। संभाजी ने अपने पिता शिवाजी के सम्मान में संस्कृत में बुद्धचरित्र भी लिखा था। इसके अलावा संभाजी ने मध्यकालीन संस्कृत का प्रयोग करते हुए शृंगारिका भी लिखी।

एक शासक के रूप में छत्रपति संभाजी महाराज (Sambhaji as a Ruler)

11 जून 1665 को पुरंदर की संधि में शिवाजी ने इस बात पर सहमति जताई थी कि उनका पुत्र मुगल सेना की सेवा करेगा, जिसके कारण केवल 8 वर्ष के संभाजी ने बीजापुर सरकार के खिलाफ अपने पिता के साथ औरंगजेब का समर्थन किया। शिवाजी और संभाजी ने खुद को औरंगजेब के दरबार में पेश किया, जहां उन्हें नजरबंद करने का आदेश दिया गया, लेकिन वे किसी तरह वहां से भागने में सफल रहे।

30 जुलाई 1680 को संभाजी और उनके अन्य सहयोगियों को सत्ता सौंप दी गई। संभाजी को अपने पिता के सयोगियो पर विश्वास नहीं था, इसलिए उन्होंने कवि कलश को अपना सलाहकार नियुक्त किया। जो हिंदी और संस्कृत के विद्वान थे और गैर-मराठी होने के कारण, उन्हें मराठा अधिकारियों ने पसंद नहीं किया, इस प्रकार संभाजी के खिलाफ माहौल बनाया और उनके शासनकाल में कोई बड़ी उपलब्धि हासिल नहीं की जा सकी।

संभाजी उपलब्धिया (Sambhaji Achievement) 

संभाजी महाराज ने अपने अल्प जीवन काल में ही हिन्दू समाज के हित में बड़ी उपलब्धियां हासिल की थीं। जिसके लिए हर हिंदू कृतज्ञ (स्वीकार के योग्य) है। उसने औरंगजेब की 8 लाख की सेना का सामना किया और कई लड़ाइयों में मुगलों को परास्त (पराजित कर दिया हुआ) किया। जब औरंगजेब महाराष्ट्र में युद्धों में व्यस्त था, उत्तर भारत में हिंदू शासकों को अपना राज्य वापस पाने और शांति स्थापित करने के लिए बहुत समय मिला। इस कारण वीर मराठों के लिए न केवल दक्षिण बल्कि पूरे देश के हिंदू उनके ऋणी हैं। क्योंकि अगर संभाजी ने उस समय औरंगजेब के सामने आत्मसमर्पण कर दिया होता या कोई संधि कर ली होती तो औरंगजेब अगले 2-3 वर्षों में उत्तर भारत के राज्यों को पुनः प्राप्त कर लेता और वहां की सामान्य प्रजा और राजाओं की समस्या बढ़ जाती, इस में संभाजी को गिना जा सकता है। उनकी सबसे बड़ी उपलब्धियों में से न केवल संभाजी बल्कि अन्य राजाओं के कारण, औरंगज़ेब 27 वर्षों तक दक्षिण में विभिन्न युद्धों में शामिल रहा, जिसके कारण उत्तर में बुंदेलखंड, पंजाब और राजस्थान के हिंदू राज्यों में हिंदुत्व को संरक्षित किया जा सका।

Advertisement

संभाजी ने कई वर्षों तक मुगलों को महाराष्ट्र में उलझाए रखा। मराठा सैनिक और मुगल देश के पश्चिमी घाट पर पीछे हटने को तैयार नहीं थे। इन दोनों मोर्चों पर छोटी-छोटी सफलताओं के कारण संभाजी लोगों के एक बड़े वर्ग के दिलों में अपनी जगह बनाने में सफल रहे।

वह समय ऐसा था कि पहाड़ और धरती लगातार कई बार बहादुर मराठों और मुगलों के खून से लथपथ थे। फिर एक समय ऐसा आया जब सभी मराठा पहाड़ी से नीचे उतर आए और इस तरह मुगलों और मराठों के सेनापति अपनी सेनाओं के साथ आमने-सामने आ गए। लेकिन यह किसी क्षेत्र में आमने-सामने होने जैसा नहीं था। इसमें मराठों का स्थान पहाड़ के निचले हिस्से से लेकर सबसे छोटे तक था, जबकि मुगल सैनिकों ने पहाड़ियों के पास के मैदानों में डेरा डाला था। ऐसे में करीब 7 साल तक सदमा और प्रतिशोध का सिलसिला चलता रहा, जिसमें मुगलों द्वारा गढ़ जीतना और मराठों द्वारा इसे वापस पाना कठिन होता जा रहा था। हालत यह थी कि उत्तर भारत के कुछ राज्य यह सोचने लगे कि औरंगजेब कभी दिल्ली नहीं लौटेगा और अंततः हिंदुत्व से लड़ाई में हार जाएगा। इस बीच, संभाजी ने 1682 में औरंगजेब के बेटे अकबर को भी शरण दी, जिसे राजपूत राजाओं ने बचा लिया था।

पूर्व- हिन्दुओं की घर वापिसी और धर्म परिवर्तन (Homecoming and conversion of ex-Hindus) 

शिवाजी महाराज के समय में ही मुगलों के दबाव में हिंदू से मुसलमान बनने वाले भाइयों की घर वापसी शुरू हो गई थी। शिवाजी महाराज सबसे पहले नेताजी पल्लाकर को फिर से एक हिंदू में परिवर्तित करने वाले थे, जिन्हें बलपूर्वक मौत के डर से इस्लाम में परिवर्तित करने के लिए मजबूर किया गया था। अपने पिता के सपने को साकार करने के लिए संभाजी ने इसे आगे बढ़ाते हुए इस दिशा में कई सराहनीय कदम उठाए। संभाजी महाराज ने इसके लिए एक अलग विभाग बनाया था, जो फिर से धर्मांतरण का काम देखता था। इस विभाग के अंतर्गत वे समस्याएं देखी गईं, जिनमें मुगलों द्वारा किसी व्यक्ति या परिवार को जबरन (forcibly) इस्लाम में परिवर्तित कर दिया गया था, लेकिन वे अपना हिंदू धर्म नहीं छोड़ना चाहते और फिर से हिंदू बनने का इरादा रखते हैं। इसके बारे में एक प्रसिद्ध किस्सा है कि हसुल गांव में कुलकर्णी नाम का एक ब्राह्मण हुआ करता था, जिसे मुगलों ने जबरन मुसलमान बना दिया था। और उन्होंने हिंदू धर्म में वापस आने की कोशिश की, लेकिन गांव के ब्राह्मणों ने मना कर दिया, क्योंकि उन्हें लगा कि कुलकर्णी अब वेद-विरोधी पद्धति अपनाकर अपवित्र हो गए हैं। लेकिन अंत में वे गए और संभाजी महाराज से मिले और उन्होंने कुलकर्णी के लिए फिर से धर्मांतरण और अनुष्ठान की विधि का आयोजन किया था। संभाजी के इस नेक प्रयास से उस समय परिवर्तन की लहर उठी और इस तरह कई हिंदू-मुस्लिम लोग अपने धर्म में लौट आए।

संभाजी भगवान शिव के प्रबल भक्त थे, जिन्होंने अपने अंतिम समय तक मुगलों के सामने भी हिंदू भगवान शिव का अनुसरण किया। संभाजी का एक नाम शंभुजी था, जो स्वयं महादेव का एक नाम है। जब संभाजी को शिवाजी के साथ औरंगजेब की शरण में जाना पड़ा, तो उन्होंने काशी विश्वनाथ से होते हुए महाराष्ट्र से दिल्ली तक की एक कठोर यात्रा की, जिसमें उनके जीवन के कई प्रारंभिक वर्ष बीत गए। इसी बीच बाल शंभू को महादेव पर अपनी कृपा नजर आने लगी और शंभू राजे शिव-शंभु की पूजा करने लगे थे।

शिवाजी राजे की मृत्यु और हिंदुत्व के लिए संकट की घडी (Death of Shivaji Raje and the time of crisis for Hindutva)

दरअसल, महान शिवाजी की मृत्यु के बाद 1680 में मराठों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। औरंगजेब को लगा कि उसका पुत्र संभाजी शिवाजी के बाद अधिक समय तक नहीं टिकेगा, इसलिए 1680 में शिवाजी की मृत्यु के बाद औरंगजेब 400,000 जानवरों और 50 लाख की सेना के साथ दक्षिण पठारव (पहाड़ी मैदान) की ओर आया था। औरंगजेब ने बीजापुर सल्तनत के आदिलशाह और गोलकुंडा सल्तनत के कुतुब शाही को हराया और मुबारक खान और शारजाखान को क्रमशः (respectively) अपना सेनापति नियुक्त किया। इसके बाद औरंगजेब ने मराठा साम्राज्य की ओर रुख (अभिवृत्ति) कि और वहां संभाजी की सेना का सामना किया। 1682 में, मुगलों ने मराठों के रामसेई किले को घेरने की कोशिश की, लेकिन वे 5 महीने के प्रयासों के बाद भी सफल नहीं हो सके। फिर 1687 में वाई के युद्ध में मुगलों के सामने मराठा सैनिक कमजोर पड़ने लगे थे। वीर मराठों के सेनापति हम्बीराव मोहिते शहीद हो गए और सैनिक सेना छोड़कर भागने लगे। इस बीच, संभाजी, फरवरी 1689 को संघमेश्वर में मुगलों के हाथों में पड़ गए।

Advertisement

छत्रपति संभाजी महाराज पर औरंगजेब का अत्याचार (Aurangzeb’s atrocities on Sambhaji)

1689 तक स्थिति बदल चुकी थी। मराठा राज संगमेश्वर में क्षत्रियों के आगमन से अनजान थे। ऐसे में मुकरब खान के अचानक हमले से मुगल सेना महल में पहुंच गई और संभाजी के साथ कवि कलश को बंदी बना लिया। उन दोनों को कैद कर लिया गया और उन्हें वेदों के खिलाफ इस्लाम अपनाने के लिए मजबूर किया गया।

औरंगजेब के शासनकाल के आधिकारिक इतिहासकार, मासिर आई अंबारी और कुछ मराठा स्रोतों के अनुसार, कैदियों को औरंगजेब के शिविर में ले जाया गया, जो अकलुज में था। यह खबर मुगल शासक तक पहले ही पहुंच चुकी थी और उन्होंने इसके लिए एक बड़ा उत्सव आयोजित करने की घोषणा की थी। मुगलों ने पूरे मार्ग में विजयी सेनापतियों के लिए उत्सवों का आयोजन और स्वागत किया था। शेख निजाम का चित्र मुगलों की जीत का जश्न मनाने के लिए बनाया गया था। सड़कों पर मुग़ल पुरुष और खिड़कियों से झाँकती महिलाएँ बुर्के के अंदर से पराजित मराठा को देखने के लिए उत्सुक थीं, जबकि रास्ते में आने वाला हर मुग़ल उनका मज़ाक उड़ा रहा था और कुछ अपमान में उनके चेहरे पर थूक भी रहे थे। मुगलों में मिले राजपूत सैनिकों को संभाजी के प्रति बड़ी सहानुभूति थी। संभाजी ने उन्हें चुनौती दी थी और कहा था कि या तो वह उन्हें खुला छोड़ दें और उनके सामने लड़ें या उन्हें मार डालें और इस अपमान से छुटकारा पाएं, लेकिन मुगलों के डर से वे सैनिक चुप थे। इस तरह 5 दिन पैदल चलकर वे औरंगजेब के दरबार में पहुँचे।

औरंगजेब संभाजी को देखकर अपने सिंहासन से नीचे उतर आया और कहा कि मराठों का आतंक बहुत अधिक हो गया है, यह एक बड़ी उपलब्धि है कि वीर शिवाजी का पुत्र मेरे सामने खड़ा हो, यह औरंगजेब अपने अल्लाह को याद करने के लिए घुटने टेक दे। कवि कलश उस समय जंजीर से बंधा हुआ एक तरफ खड़ा था, लेकिन उसने संभाजी की ओर देखा और कहा कि हे मराठा राजा देखो, आलमगीर स्वयं अपने सिंहासन पर से उठ खड़ा हुआ है, और तुम्हारे सम्मुख श्रद्धा से प्रणाम करने आया है। कलश ने उन विपरीत परिस्थितियों में भी वीरता दिखाते हुए कहा कि औरंगजेब अपने दुश्मन संभाजी राजे के सामने घुटने टेक रहा है।

इससे औरंगजेब क्रोधित हो गया और उसने उन दोनों को तहखाने में रखने का आदेश दिया। औरंगजेब ने शेख निजाम को फतेह जंग खां-ए-आज़म की उपाधि देने की घोषणा की, साथ में 50,000 रुपये, एक घोड़ा, एक हाथी, और 6000 सैनिकों की एक टुकड़ी देने की घोषणा की। इसके अलावा उनके बेटे इकलास और भतीजे ने भी सेना में उपहार और उच्च पदों की घोषणा की।

मुगल नायकों ने संभाजी को सुझाव दिया कि यदि उन्होंने अपना पूरा राज्य और सभी किले औरंगजेब को सौंप दिए, तो औरंगजेब संभाजी के जीवन को बख्श (तोहफे में देना) देगा, पर संभाजी ने इससे इनकार कर दिया। इसके बाद मुगल अपने उस उद्देश्य पर लौट आए जिसके लिए उन्होंने भारत पर आक्रमण किया था। जिसमें मुख्य कार्य गैर-मुसलमानों को मुस्लिम बनाना और जनता को लूटना और महिलाओं का शील भंग करना था। यह सब देखकर संभाजी को बहुत दुख हो रहा था। ऐसे में संभाजी की हालत देखकर उन्हें फिर औरंगजेब की ओर से यह संदेश मिला कि अगर वह इस्लाम अपना लेंगे तो उन्हें विलासिता की जिंदगी दी जाएगी। लेकिन संभाजी ने साफ तौर पर कहा कि आलमगीर देश का सबसे बड़ा दुश्मन है और वह ऐसी कोई संधि नहीं कर सकते, जो उनके देश के सम्मान के खिलाफ हो।

गंभीर यातना के बाद भी संभाजी और कलश को कैद से निकालकर घंटी की टोपी पहनाई गई। हाथों में खड़खड़ाहट लिए ऊंटों को बांधकर तुलापुर के बाजार में घसीटा गया, मुगल लगातार उनका अपमान कर रहे थे और उन पर थूक रहे थे। उन्हें जबरन घसीटा जा रहा था, जिससे खड़खड़ाहट की आवाज साफ सुनाई दे रही थी। मुग़ल ये सब देखकर अपनी असलियत का परिचय देते हुए हँस रहे थे और बेरहमी से उपहास उड़ा रहे थे। मंत्री कलश भी ऐसे में हार मानने वालों में से नहीं थे, वे लगातार भगवान का जाप कर रहे थे, जब उनसे बाल खींचकर इस्लाम कबूल करने को कहा जा रहा था, तब भी उन्होंने साफ तौर पर मना कर दिया और कहा, कि हिंदू धर्म ही सच्चा है और शांतिप्रिय धर्म सभी धर्मों से ऊपर। मराठों के लिए अपने राजा का अपमान देखना एक बड़ी मजबूरी थी।

छत्रपति संभाजी महाराज की मृत्यु (Death of Sambhaji)

औरंगजेब ने कई बार कहा कि वह संभाजी को माफ कर देगा, लेकिन अगर वह फिर भी इस्लाम स्वीकार करता है। संभाजी ने मुगलों का उपहास उड़ाया और कहा कि वह मुसलमानों की तरह मूर्ख नहीं हैं, जो ऐसे मानसिक मंद व्यक्ति (मुहम्मद) के सामने घुटने टेकते हैं। तब संभाजी ने अपनी हिंदू मूर्ति महादेव को याद किया और कहा कि धर्म और अधर्म के अंतर को देखने और समझने के बाद, वह अपना जीवन हजारों बार हिंदुत्व और राष्ट्र को समर्पित करने के लिए तैयार है और इस तरह संभाजी म्लेच्छ औरंगजेब के आगे नहीं झुके, इससे पहले किसी ने भी अल्लाह, मोहम्मद, इस्लाम के खिलाफ इतनी खुलकर बात नहीं की थी। औरंगजेब ने क्रोधित होकर आदेश दिया कि संभाजी के घावों पर नमक छिड़का जाए और उन्हें घसीट कर औरंगजेब के सिंहासन के नीचे लाया जाना चाहिए। फिर भी संभाजी लगातार भगवान शिव का नामजप करते जा रहे थे। तब उसकी जीभ काटकर आलमगीर के पांवों में रख दी गई, जिसने उसे कुत्तों को खिलाने का आदेश दिया। लेकिन औरंगजेब यह भूल गया था कि वह कभी भी संभाजी की जीभ काटकर देशभक्ति और ईश्वर भक्ति को संभाजी के दिल और दिमाग से अलग नहीं कर सकता।

संभाजी अभी भी एक मुस्कान के साथ भगवान शिव की पूजा कर रहे थे और मुगलों को गर्व से देख रहे थे। इस पर उनकी आंखें हटा दी गईं और फिर उनके दोनों हाथ भी एक-एक कर काट दिए गए। और यह सब धीरे-धीरे संभाजी को हर दिन परेशान करने लगा। संभाजी के मन में अभी भी अपने पिता वीर शिवाजी की यादें थीं, जो उन्हें हर पल इन विपत्तियों का सामना करने के लिए प्रेरित कर रही थीं। हाथ काटने के लगभग दो सप्ताह बाद 11 मार्च 1689 को उनका सिर भी काट दिया गया था। उनका कटा हुआ सिर महाराष्ट्र के नगरों में जनता के सामने चौकों पर रखा गया था, ताकि मुगल भी मराठों के बीच फैल सकें। जबकि उसके शरीर को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर तुलापुर के कुत्तों को खिलाया गया। लेकिन ये सभी वीर मराठाओं पर अपना प्रभाव नहीं डाल सके।

Advertisement

अंतिम क्षणों तक भगवान शिव का जप करने वाले वीर राजा के इस बलिदान से हिंदू मराठाओं के अपने राजा के प्रति सम्मान ने मुगलों के प्रति आक्रोश को बढ़ा दिया। एक अन्य किंवदंती के अनुसार, संभाजी को “वाघ नखले” अर्थात चीता की कीलों से मारा गया था, उन्हें दो टुकड़ों में फाड़ दिया गया था और एक कुल्हाड़ी से काट दिया गया था और पुणे के पास तुलापुर में भीमा नदी के तट पर फेंक दिया गया था।

Last Final Word:

तो दोस्तों हमने आज के इस आर्टिकल में आपको छत्रपति संभाजी महाराज का जन्म और शिक्षा और संभाजी परिवार, छत्रपति संभाजी महाराज को पिता से कड़वे संबंध, कवि कलशो के साथ संभाजी की मित्रता, संभाजी उपलब्धिया, पूर्व- हिन्दुओं की घर वापिसी और धर्म परिवर्तन, शिवाजी राजे की मृत्यु और हिंदुत्व के लिए संकट की घडी, छत्रपति संभाजी महाराज पर औरंगजेब का अत्याचार, छत्रपति संभाजी महाराज की मृत्यु के बारे में विस्तार में बताया है। तो हम उम्मीद करते है की आप इन सभी जानकारियों के वाकिफ हो चुके होगे और आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद भी आया होगा।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी छात्रों को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement