General Studies

बक्सर का युद्ध

Advertisement

बक्सर की लड़ाई 22/23 अक्टूबर 1764 को ईस्ट इंडिया कंपनी के हेक्टर मुनरो और बक्सर शहर के आसपास मुगलों और नवाबों की सेना के बीच लड़ी गई थी। बंगाल के नवाब मीर कासिम, अवध के शुजा-उद-दौला और मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय की संयुक्त सेनाएं ब्रिटिश कंपनी से लड़ रही थीं। अंग्रेजों ने लड़ाई जीत ली और परिणामस्वरूप पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, उड़ीसा और बांग्लादेश के नागरिक और राजस्व अधिकार ब्रिटिश कंपनी के पास चले गए।

बक्सर का युद्ध (Battle of Buxar) 

बक्सर की लड़ाई में अंग्रेजों की जीत का भारत की आर्थिक और राजनीतिक स्थिति पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ा और कई राज्यों की स्थिति बहुत खराब हो गई थी। बक्सर की इस ऐतिहासिक लड़ाई के बाद, बंगाल पर न केवल पूरी तरह से अंग्रेजों का शासन था, बल्कि पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, झारखंड, बांग्लादेश, बिहार का राजस्व और नागरिक अधिकार ब्रिटिश ईस्ट कंपनी के हाथों में चला गया।

प्लासी की लड़ाई में अंग्रेजों की जीत के बाद बक्सर की लड़ाई की पृष्ठभूमि 

1757 ई. में जब अंग्रेजों ने प्लासी की लड़ाई जीती तो अंग्रेजों ने मीर जाफर को बंगाल का शासक बना दिया, जो उस समय के सबसे अमीर प्रांतों में से एक था, ताकि वह अंग्रेजों के कहने पर काम कर सके और वह बंगाल ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की कठपुतली नहीं थी, जो अंग्रेजों के आदेश के अनुसार राज्य के लिए सभी फैसले अंग्रेजों के हित में लेती थी, और अंग्रेजों पर बहुत पैसा खर्च करती थी। वहीं लंबे समय तक ऐसा करने से उनका खजाना खत्म होने की कगार पर पहुंच गया, राजस्व संग्रह में गिरावट आने लगी। ब्रिटिश ईस्ट कंपनी के कर्मचारियों ने व्यापारी नीतियों का जमकर दुरुपयोग करना शुरू कर दिया, विदेशी व्यापारियों द्वारा दिया जाने वाला कर समाप्त हो गया।

Advertisement

इस दौरान अंग्रेजों ने केवल अपने फायदे के लिए नीतियां बनाई थीं, जिससे बंगाल आर्थिक रूप से गिर रहा था, लेकिन इन सबके बावजूद जब अंग्रेजों का पैसे का लालच शांत नहीं हुआ तो उन्होंने मीर जाफर को राजगद्दी से खदेड़ दिया। बंगाल के नवाब और उसके स्थान पर मिरकासिम को गद्दी पर बैठाया। वहीं जब मिरकासिम ने गद्दी संभाली तब बंगाल की आर्थिक स्थिति काफी खराब हो चुकी थी। वहीं अंग्रेजों के साथ हुई संधि के अनुसार उन्हें कुछ पैसे भी पेंशन के रूप में अंग्रेजों को देने थे।

बक्सर के युद्ध के प्रमुख कारण (Major Causes of Battle of Buxar) 

मिरकासिम द्वारा व्यापारिक नीतियों में परिवर्तन कर बंगाल की स्थिति में सुधार के प्रयास किए गए

जब बंगाल के नवाब मीर कासिम ने अपने राज्य बंगाल को आर्थिक रूप से खोखला होते देखा तो उन्हें पता चला कि अंग्रेज विदेश व्यापार नीति का गलत तरीके से इस्तेमाल कर रहे हैं और समुद्री व्यापार में कर देने की व्यवस्था का बुरी तरह उल्लंघन कर रहे हैं। और मिरकासिम के शासनकाल में बंगाल की आंतरिक नीतियों में अंग्रेजों का दखल इतना बढ़ गया था कि भारतीय व्यापारियों द्वारा राज्य के नवाब को होने वाला मुनाफा भी अंग्रेजों की जेब में चला गया। जिसके बाद बंगाल के नवाब मीर कासिम ने इस दिशा में उचित कदम उठाए और राज्य के खाली खजाने को भरने की कोशिश की और विद्रोही सेना और विरोध करने वाले जमींदारों को उचित सलाह दी। इसके बाद धीरे-धीरे राज्य के हालत में सुधार होने लगा।

मिरकासिम ने अपनी कुशल नीतियों से बकाया लागत भी वसूल की और ब्रिटिश ईस्ट कंपनी की सभी मांगों को पूरा किया। साथ ही अपने राज्य की सेना को अंग्रेजों के दुष्प्रभाव से बचाने के लिए मुंगेर भेज दिया। इसके साथ ही उन्होंने एक कुशल प्रशासक की तरह व्यापारिक नीतियों को पहले की तरह लागू किया। इसके साथ ही अंग्रेजों द्वारा चुंगी के दुरुपयोग को रोकने के लिए उन्होंने व्यापार से सभी आंतरिक करों को हटा दिया, जिससे भारतीय व्यापारियों को भी लाभ हुआ और उनके राज्य की स्थिति में सुधार होने लगा।

Advertisement

मीरकासिम की नीतियों से गुस्से में हुए अंग्रेज 

राज्य की नीतियों को बदलने के मिरकासिम के फैसलों ने ब्रिटिश ईस्ट कंपनी को नाराज कर दिया और इसे अपने विशेषाधिकारों और नैतिक अधिकारों और मूल्यों का उल्लंघन मानते हुए उन पर युद्ध की घोषणा की।

साथ ही युद्ध की स्थिति भी पैदा हो रही थी क्योंकि बंगाल के नवाब और अंग्रेज दोनों अपने-अपने फायदे की नीति अपना रहे थे, जबकि ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी बंगाल पर एक ऐसा नवाब चाहती थी, जो कठपुतली की तरह हो। उसका आदेश नृत्य कर सकते हैं, लेकिन इसके विपरीत मिरकासिम प्रजा और राज्य के कल्याण के बारे में सोचने वाले एक सक्षम और कुशल प्रशासक थे। वहीं मीरकासिम के कुछ ऐसे फैसलों से बक्सर की लड़ाई शुरू हो गई। हालांकि, बक्सर की लड़ाई से पहले, मिरकासिम को अंग्रेजों ने उद्दौनला, करवा और गिरिया की लड़ाई में हराया था। जिसके बाद वह अंग्रेजों से अपनी जान बचाने के लिए अवध आ गए थे।

बक्सर के युद्ध की शुरुआत (Beginning of the Battle of Buxar) 

मिरकासिम को अवध के नवाब शुजा-उद-दौला और मुगल सम्राट शाहआलम का समर्थन मिला

प्लासी की लड़ाई में अंग्रेजों की जीत के बाद ब्रिटिश ईस्ट इंडिया का प्रभुत्व काफी बढ़ गया था, जबकि कई लड़ाइयों में हार के बाद, मिरकासिम ने अवध के नवाब शुजा-उद-दौला से मदद मांगी, उनमें से एक जिन्हें उस समय के सबसे शक्तिशाली राजा माना जाता था। आपको बता दें कि उस दौरान अवध के नवाब के प्रधानमंत्री मुगल बादशाह शाह अलमदितिया थे। जिसके बाद अवध के नवाब कुछ पैसे के बदले मिरकासिम का साथ देने के लिए राजी हो गए और अंग्रेजों से लड़ने के फैसले में बिहार के साथ-साथ मुगल बादशाह भी इस लड़ाई में उनका साथ देने के लिए मिरकासिम के साथ आए। फिर बाद में इन तीनों की संयुक्त सेना ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया के खिलाफ योजना बनाई और 1764 में बंगाल से अंग्रेजों को खदेड़ने के लिए उनके खिलाफ युद्ध की घोषणा की।

Advertisement

बक्सरी की लड़ाई में मिरकासिम के खिलाफ अंग्रेजों की साजिश (British conspiracy against Mirkasim in the battle of Buxar) 

मिकासिम की संयुक्त सेना के कुछ सैनिकों ने उसे धोखा दिया

बंगाल के नवाब मिरकासिम, मुगल सम्राट शाह आलम और अवध के नवाब शुजा-उद-दौला सबसे पहले अंग्रेजों को बंगाल से बाहर निकालने के लिए पटना पहुंचे। वहीं जब अंग्रेजों ने तीनों की संयुक्त सेना को देखा तो ब्रिटिश सेना के मुखिया के होश उड़ गए। हालाँकि, इसके बाद उन्होंने अपनी सेना को निर्देश दिए और फिर पटना को घेर लिया गया, लेकिन ‘साहूमल’ (रोहतास के सूबेदार), असद खान और ज़ैनुल अबदीन अवध के नवाब की सेना में विश्वासघाती थे, जिन्होंने अंग्रेजों से गठबंधन किया था।

अंग्रेजों ने उन्हें कुछ लालच देकर पहले ही खरीद लिया था, जिसके कारण ये तीन विश्वासघाती सैनिक शुजाउद्दौला की सारी जानकारी ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को देते थे। वह सैनिकों के विश्वासघात के कारण पटना की घेराबंदी में सफल नहीं हुआ।

इस दौरान उनके कुशल जनरल ‘कैप्टन मुनरो’ को अंग्रेजी सेना का नेतृत्व करने के लिए नियुक्त किया गया था। जिसे डर था कि अगर मिरकासिम, शुजा-उद-दौला और शाह आलम की संयुक्त सेना उस अवधि के दौरान मराठों और सिखों के साथ मिल गई, तो वे हार जाएंगे, इसलिए कप्तान मुनरो ने जल्द ही लड़ने का फैसला किया। दूसरी ओर, अवध के नवाब ने सेना में विश्वासघातियों के साथ मिलकर उसके लिए इस युद्ध को लड़ना आसान बना दिया। इसके बाद 23 अक्टूबर, 1764 को ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी और मिरकासिम, शुजा-उद-दौला और शाह आलम की संयुक्त सेना ने बिहार के बलिया से लगभग 40 किमी की दूरी पर मार्च किया। बक्सर नामक स्थान पर आमने-सामने हुआ और बक्सर का युद्ध हुआ। यह युद्ध केवल 3 घंटे तक चला, जिसमें अंग्रेजों की जीत हुई।

छल-कपट से हुई अंग्रेजों की जीत

Advertisement

इस युद्ध के दौरान, शुजा-दौला के सैनिकों के विश्वासघात और मीर कासिम, शुजा-उद-दौला और शाह आलम के कमजोर गठबंधन के कारण, अंग्रेजों ने इस युद्ध को जीत लिया।

दरअसल, मिरकासिम और शाह आलम के पास अपनी कोई सेना नहीं थी, जिसके कारण अवध के नवाब शुजा-उद-दौला ने इस युद्ध के लिए सैनिकों को तैयार करने के लिए उन पर दैनिक खर्च के लिए लगभग 11 लाख रुपये की मांग की, जबकि मीरकासिम की इस माँग को पूरा न कर पाने के कारण शुजाउद्दौला ने मिरकासिम की सारी सम्पत्ति पर जबरन कब्जा कर लिया और वह स्वयं बिहार की गद्दी पर बैठना चाहता था। जिससे दोनों के रिश्ते में कड़वाहट आ गई थी।

दूसरी ओर मुगल बादशाह शाह आलम के पास भी अपनी कोई सेना नहीं थी और वह दिल्ली की गद्दी पर बैठना चाहता था, जबकि अंग्रेजों की मदद का आश्वासन मिलने के बाद भी वह इस बारे में ज्यादा गंभीर नहीं था। ऐसे में यह युद्ध केवल 3 घंटे ही चल सका और इस युद्ध में अंग्रेजों की जीत हुई।

इस तरह अंग्रेजों को मिरकासिम के कमजोर गठबंधन, शाह आलम के विश्वासघात का फायदा मिला, कुछ विश्वासघाती सैनिकों और सैनिकों के पास युद्ध के लिए पर्याप्त तैयारी नहीं थी, और आखिरकार अंग्रेजों ने बक्सर की लड़ाई को छल, छल और प्रभुत्व के कारण जीत लिया।

युद्ध के घातक परिणाम (Fatal Consequences of War)

बक्सर की लड़ाई में हार के बाद, मुगल सम्राट शाह आलम, जो पहले से ही अंग्रेजों से संबद्ध था, उसने अंग्रेजों के साथ एक संधि की और उनकी शरण ली। उसी समय अवध के नवाब शुजा-उद-दौला और अंग्रेजों के बीच लड़ाई हुई, लेकिन लगातार हार के कारण शुजा-उद-दौला को भी अंग्रेजों के सामने आत्मसमर्पण करने के लिए मजबूर होना पड़ा और उन्हें अंग्रेजों के साथ संधि करनी पड़ी।

वहीं इलाहाबाद की संधि के बाद जहां मुगल बादशाह शाह आलम को उड़ीसा, बिहार, बंगाल का राजस्व ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी और दीवानी कंपनी के हाथों में सौंपना पड़ा था। वहीं, अवध के नवाब शुजा-उद-दौला को भी अंग्रेजों के साथ हुई संधि के अनुसार इस युद्ध में नुकसान के रूप में लगभग 60 लाख रुपये की राशि अंग्रेजों को देनी पड़ी थी।

इलाहाबाद के किले और कड़ा के क्षेत्र को छोड़ना पड़ा था। मीर जाफर की मृत्यु के बाद, ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने उनके बेटे नजमुदौला को बंगाल का नवाब बनाया। इसके अलावा गाजीपुर और आसपास का इलाका अंग्रेजों को देना पड़ा था। वहीं बक्सर की लड़ाई में हार के बाद मिरकासिम किसी तरह जान बचाकर भागने में सफल रहा, लेकिन बंगाल से ब्रिटिश शासन को खत्म करने का उनका सपना पूरा नहीं हो सका। उसके बाद वे दिल्ली चले गए और यहीं पर उन्होंने बड़ी मुश्किलों के साथ अपना शेष जीवन व्यतीत किया था। वहीं, 1777 ई. के आसपास दिल्ली के पास उनकी मृत्यु हो गई। हालांकि उनकी मौत के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है। कुल मिलाकर बक्सर के युद्ध के बाद अंग्रेजों की शक्ति और भी अधिक बढ़ गई, जिसका भारत की राजनीति पर प्रभाव पड़ा।

Advertisement

अधिकांश राज्यों के शासक अंग्रेजों पर निर्भर होने लगे और धीरे-धीरे भारत के सामाजिक, नैतिक, राजनीतिक और आर्थिक मूल्यों का पतन होने लगा और अंतत: (आखिरकार) अंग्रेज भारत को पूरी तरह जीतने में सफल हो गए और फिर भारत किसकी बेड़ियों में बँध गया और अंग्रेजों के अमानवीय अत्याचारों का शिकार हो गया।

इलाहाबाद की सन्धि (Treaty of Allahabad)

बक्सर की लड़ाई की समाप्ति के बाद, क्लाइव ने इलाहाबाद की पहली और दूसरी संधियाँ क्रमश: (क्रम से) सेमुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय और अवध के नवाब शुजा-उद-दौला के साथ की।

इलाहाबाद की पहली संधि (12 अगस्त, 1765 ई.) 

  • कंपनी ने मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय से बंगाल, बिहार और उड़ीसा की दीवानी प्राप्त की।
  • कंपनी ने अवध के नवाब से कारा और इलाहाबाद के जिलों को ले लिया और मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय को दे दिया।
  • कंपनी मुगल बादशाह को सालाना 26 लाख रुपए पेंशन देने पर राजी हो गई।

इलहाबाद की दूसरी संधि (16 अगस्त 1765 ई.)

  • इलाहाबाद और कारा को छोड़कर शेष अवध को शुजा-उद-दौला को वापस कर दिया गया था।
  • अवध की सुरक्षा के लिए नवाब की कीमत पर कंपनी द्वारा अवध में एक अंग्रेजी सेना रखी गई थी।
  • कंपनी को अवध में टैक्स फ्री बिजनेस करने की सुविधा मिली।
  • शुजा-उद-दौला को बनारस के राजा बलवंत सिंह से पहले की तरह लगान वसूल करने का अधिकार दिया गया था। राजा बलवंत सिंह ने युद्ध में अंग्रेजों की सहायता की।

Last Final Word: 

तो दोस्तों हमने आज के इस आर्टिकल में आपको बक्सर का युद्ध, प्लासी की लड़ाई में अंग्रेजों की जीत के बाद बक्सर की लड़ाई की पृष्ठभूमि, बक्सर के युद्ध के प्रमुख कारण, बक्सर के युद्ध की शुरुआत, बक्सरी की लड़ाई में मिरकासिम के खिलाफ अंग्रेजों की साजिश, छल-कपट से हुई अंग्रेजों की जीत, युद्ध के घातक परिणाम, इलाहाबाद की सन्धि इस सभी के बारे में विस्तार में बताया है। तो हम उम्मीद करते है की आप इन सभी जानकारियों के वाकिफ हो चुके होगे और आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद भी आया होगा।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य अध्ययन, सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी छात्रों को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement