General Knowledge

भारत में जिले का नाम बदलने की क्या प्रक्रिया है?

Advertisement

दोस्तों, आपने इंसानों के नाम बदलते हुए देखा होगा, लेकिन भारत में जिले, शहर, सड़क, हॉस्पिटल, कॉलेज और चोराहो के नाम भी बदले जाते है। इस लिए हम इस आर्टिकल में बात करने वाले है की भारत में जिले का नाम बदलने की प्रक्रिया क्या है और उसमे खर्चा कितना आता होगा?

भारत में जिले का नाम बदल ने की प्रक्रिया

  • किसी भी जिले के नाम को बदलने की अपील उस जिले की जनता या जिले के जनप्रतिनिधियों के द्वारा की जाती है।
  • इस सम्बन्ध में एक प्रस्ताव राज्य विधान सभा से पास करके राज्यपाल को भेजा जाता है। या आप इस प्रकार से भी कह सकते है की किसी भी जिले या संस्थान का नाम बदलने के लिए पहले प्रदेश कैबिनेट की मंजूरी जरूरी होती है।
  • राज्यपाल नाम बदलने की अधिसूचना को गृह मंत्रालय को भेजता है।
  • गृह मंत्रालय इसे का स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है।

जिले का नाम बदलने की मंजूरी मिलने के बाद

  • राज्य सरकार जिले के नाम को बदलने की अधिसूचना जारी करती है या शासक एक गजट प्रकाशित करता है।
  • इसकी एक कॉपी सरकारी डाक से संबंधित जिले के डिएम को भेजी जाती है।
  • कॉपी मिलने के बाद डिएम नए नाम की सुचना अपने आधीन सभी विभागों के विभागाध्यक्ष को पत्र लिखकर देते है। एक जिले में 70 से 90 तक सरकारी डिपार्टमेंट होते है।
  • सुचना मिलते ही इन सभी विभागों के चालू दस्तावेजों में नाम बदलने का काम शुरू हो जाता है।

जैसा की हाल ही में इलाहाबाद से प्रयागराज नाम बदल ने की प्रक्रिया के दौरान हो रहा है। सभी सरकारी बोर्डो पर नया नाम लिखवाया जाता है। सरकारी, गैर सरकारी संस्थानों को अपने साइन बोर्ड बदलवाने पड़ते है। एसा नहीं है जिस जिले का नाम बदलाया जाता है केवल वही पर स्टेशनरी, मोहरों, साइन बोर्ड इत्यादि में नाम बदले जाते है बल्कि पुरे देश में जहा जहा पर उस नाम का प्रयोग पहले से होगा व्यापक पैमाने पर पुरे देश में बदलाव किए जाते है। दोस्तों हम अब हम बात करते है इस पूरी प्रक्रिया को पूरा करने में खर्च कितना आता है।

भारत के जिले का नाम बदलने में खर्च कितना होगा? (Cost To Change The Name Of A District In India?)

जब भी कभी इन नामो को बदलने की प्रक्रिया शुरू होती है, सरकारी खजाने पर भारी बोज पड़ता है। जिले या प्रदेश में स्थित सभी बैंक, रेलवे स्टेशन, ट्रेनों, थानों, बसों तथा बस अड्डो, स्कूलों एवं कॉलेज को अपने स्टेशनरी-बोर्ड पर लिखे पतों पर नाम बदल ना पड़ता है और इनमे से बहुत सस्थानो को अपने वेबसाइट का नाम भी बदल ना पड़ता है। पुरानी स्टेशनरी और मोहरों की जगह नई सामग्री मंगानी पड़ती है।

Advertisement

हालाकि, नाम बदलने का बिलकुल सही अनुमान नहीं लगाया जा सकता है, केवल अनुमानित राशी ही बताई जा सकती है क्युकी किन-किन चीजो के नाम बदले जायेगे इस बारे में कोई पके आकडे उपलब्ध नहीं है, लेकिन अनुमान के तोर पर यह कहा जा सकता है की केंद्र से लेकर प्रदेश के खजाने के साथ-साथ सरकारी एवं गेर सरकारी क्षेत्र के उपकरमो और आम जनता को भी इस का खामियाजा भुगतना पड़ता है। सरकार के खजाने से करोडो रूपए जाते है।

आखिर यह नाम बदले ही क्यों जाते है? (Why Does This Name Keep Changing?)

नाम बदलने के पीछे ज्यादा तर राजनीतिक, भौगोलिक और सामाजिक कारण जिम्मेदार होते है। वर्तमान में योगी सरकार इलाहाबाद का नाम इस लिए बदल रही है क्युकी यह नाम मुस्लिम शासक अकबर के द्वारा रखे गए थे और नए नाम भारत की पुरानी संस्कृति का हिस्सा है। ईस से पहले मायावती ने अपने समाज के पूर्वजो जैसे गौतम बुद्ध, ज्योतबा फुले, संत रविदास को सम्मान देने के लिए कुछ जिले के नाम बदले थे, लेकिन अखिलेश सरकार के आते ही उन नामो को वापस पुराने नामो में बदल दिया था।

बोम्बे का नाम मुंबई करने के पीछे वहा की मुंबादेवी के नाम के प्रति सम्मान दिखाने के लिए किया गया था। मुंबादेवी को मुंबई के तटीय प्रदेशो में मच्छवारो का रक्षक माना जाता है।

नाम बदलने से नुकसान क्या-क्या है? (What Are The Disadvantages Of Changing The Name?)

नाम बदल ने से बहुत फायदे नजर नहीं आते है, बल्कि इस से लोगो की किमती कमाई की बर्बादी ही होती है। इस के अलावा विदेशो में भी नए नाम को पहचान बनाने के लिए बहुत समय लग जाता है। यदि इलाहाबाद की उदाहरण ले, इलाहाबाद का ही नाम बदला गया है, देश के पर्यटक क्षेत्र को नुकसान भी उठाना पड़ सकता है क्युकी इलाहाबाद का संगम मेला पुरे विश्व में प्रसिद्ध है, लेकिन नाम बदलने से विदेशी पर्यटक भ्रमित हो सकते है, क्या ये वही पवित्र शहर है या कोई और शहर?

Advertisement

हर सिक्के के दो पहलु होते है। नाम बदलने के कुछ फायदे भी गिनाने वाले आपको मिल जाएगे नुकसान बताने वाले भी मिल जाएगे लेकिन राजनीति से हट कर आप खुद सोचिए की नाम बदलने से क्या फायदा या नुकसान मिलता है?

Last Final Word

इस आर्टिकल में “भारत में जिले का नाम बदलने की क्या प्रक्रिया है और इसमें कितना खर्च आता है?” हमने आपको इस से जुडी सारी जानकारी दे दी है। अगर आपको इस आर्टिकल से जुड़ा कोई भी प्रश्न है, आप कमेंट बॉक्स में बता सकते है।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आसानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते है ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट करके हमे बता सकते है, धन्यवाद्।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement