Career Guide

B.E Course की पूरी जानकारी

Advertisement

नमस्कार दोस्तों! आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे की  B.E. (Bachelor of Engineering) कोर्स क्या है और उसकी पूरी जानकारी के बारें में और यह आर्टिकल उनके लिए है जो छात्र 12 वीं कक्षा में मेथेमेटिक्स विषय लेकर पढाई कर रहे है। तो आजके इस आर्टिकल में आप जानने वाले है B.E. (Bachelor of Engineering Course) के बारे में अगर आप आगे B.E करना चाहते है या फिर करने वाले है तो आज का यह आर्टिकल को ध्यान से और जरुर पढ़े। जैसे की B.E क्या है?, B.E कैसे करे?, B.E के लिए योग्यता क्या होती है?, B.E. के लिए प्रवेश प्रक्रिया क्या है?, B.E. के बाद करियर और स्कोप (Career and Scope after B.E), B.E के बाद सैलरी कितनी मिलेगी और Bachelor of engineering के बारे में सभी जानकारी लेते है, तो चलो जानते है B.E. कोर्स के बारे में।

जरुर पढ़े: B.Tech और B.E कोर्स में क्या अंतर है?

B.E क्या है? (What is Bachelor of Engineering)

B.E. का मतलब bachelor of engineering होता है जो एक अंडरग्रेजुएट इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स (Undergraduate Engineering Degree Course) है और यह कोर्स आपको 4 साल तक करना होता है, जिसमे 8 सेमिस्टर की थ्योरी और प्रेक्टिकल के साथ आपको Electrical, Mechanical, Thermodynamic, Civil Engineering इत्यादि के बारें में आपको ध्यान से पढ़ाया जाता है।

Advertisement

Bachelor of Engineering के अंदर भी बहुत सारे Specialization Course होते है जैसे Mechanical Engineering, Chemical Engineering, Computer Engineering, Civil Engineering जैसे बहुत सारे कोर्स होते है। इन सभी कोर्स में से किसी एक कोर्स को आपको पसंद करना होता है और उसी में आपको आगे study करनी होती है।

यदि आपको टेक्निकल फील्ड में काम करना, कुछ नया करना, नया प्रैक्टिकल पढ़ाई करना, टेक्निकल रिसर्च करना जैसा काम अच्छा लगता है तो आपको इंजिनियरिंग जरूर करनी चाहिए, लेकिन इस कोर्स को करने के बाद आपको अपने कौशल पर ज्यादा जोर देना होगा। तो आइए आगे जानते है कैसे आप bachelor of science कर सकते हैं। B.E का फुल फोम  “Bachelor Of Engineering” होता है।

जरुर पढ़े: बी.टेक कोर्स की पूरी जानकारी

बी.ई कैसे करें? (How to do BE details in Hindi)

यदि आपको B.E करना चाहते है तो इसकी शुरुआत 10th कक्षा पास होने के बाद ही शुरू हो जाती है। 10th कक्षा पास होने के बाद आपको 11th और 12th कक्षा में साइंस विषय लेना होगा, और साइंस में भी आपको फिजिक्स, केमिस्ट्री, और मैथमेटिक्स सब्जेक्ट होना जरूरी है।

Advertisement

जब आप 12वी कक्षा साइंस विषय के साथ अच्छे मार्क्स के साथ पास कर लेंगे तो फिर इसके बाद ही आप bachelor of engineering  के लिए जा सकते है। लेकिन bachelor of engineering  करने के लिए भी आपको कुछ eligibility को पूरा करना जरूरी है, और आपको इसकी सारी जानकारी निचे की सूचि में दियी गयी है।

Bachelor of Engineering के लिए योग्यता (Eligibility for B.E)

बी.ई. के लिए कुछ योग्यता (Qualification) चाहिए होती है जो कि निचे की दी गयी है:

  • बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग में एडमिशन लेने के लिए आपको 12 वीं कक्षा में साइंस में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स सब्जेक्ट को रखना जरूरी है।
  • इसके साथ ही साथ 12 वीं कक्षा कि एग्जाम को आपको कम से कम 60 % गुण के साथ पास करना जरूरी है।
  • 12 वीं कक्षा के बाद Joint Entrance Exam Mains (JEE Mains), Joint Entrance Exam Advance (JEE Advance) एग्जाम को पास करना भी जरूरी है।
  • इसके अलावा नेशनल और स्टेट लेवल की एंट्रेंस एग्जाम पास करना भी जरूरी है। जिसकी जानकारी नीचे पढ़ सकते हो।

जरुर पढ़े: ग्रेजुएशन के बाद क्या करें एमबीए या एमसीए ?

B.E कोर्स में विशेषज्ञता वाले सब्जेक्ट (B.E COURSES SPECIALIZATION)

इंजीनियरिंग एक बहुत ही बड़ा क्षेत्र वाला सब्जेक्ट है इसलिए बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग के अंतर्गत  में 40 से ज्यादा सब्जेक्ट को उमेरा गया है, और यह किसी भी छात्र के लिए मुमकिन नहीं है की वो सारे subjects  की डीपली पढाई कर सके, आइये विशेषज्ञ विषय के बारे में जानते है, इनमे से छात्र किसी भी एक में bachelor of engineering  कर सकते है।

  1. सिविल इंजीनियरिंग में बीई
  2. मैन्युफैक्चरिंग इंजीनियरिंग में बी.ई
  3. बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में बीई
  4. इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में बी.ई
  5. एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बी.ई
  6. इलेक्ट्रॉनिक्स और कंप्यूटर इंजीनियरिंग में बीई
  7. कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग में बीई
  8. रोबोटिक्स इंजीनियरिंग में बीई
  9. माइक्रोइलेक्ट्रॉनिक इंजीनियरिंग में बीई
  10. परमाणु इंजीनियरिंग में बीई
  11. बायोमेकेनिकल इंजीनियरिंग में बीई
  12. उत्पादन इंजीनियरिंग में बीई
  13. जैव सूचना विज्ञान इंजीनियरिंग में बीई
  14. एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में बीई
  15. प्रिंट प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग में बीई
  16. सूचना विज्ञान और इंजीनियरिंग में बीई
  17. इलेक्ट्रिकल और संचार इंजीनियरिंग में बीई
  18. समुद्री इंजीनियरिंग में बीई
  19. जैव प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग में बीई
  20. इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार इंजीनियरिंग में बीई
  21. नैनो टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग में बीई
  22. कंप्यूटर विज्ञान में बीई
  23. पेट्रोलियम इंजीनियरिंग में बीई
  24. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीई
  25. केमिकल इंजीनियरिंग में बी.ई
  26. सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में बीई
  27. माइनिंग इंजीनियरिंग में बी.ई
  28. सिरेमिक इंजीनियरिंग में बीई
  29. इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार इंजीनियरिंग में बीई
  30. सामग्री विज्ञान इंजीनियरिंग में बीई
  31. कंप्यूटर इंजीनियरिंग में बीई
  32. कृषि इंजीनियरिंग में बीई
  33. खाद्य प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग में बीई
  34. पर्यावरण इंजीनियरिंग में बीई
  35. औद्योगिक इंजीनियरिंग में बीई
  36. विमान निर्माण और रखरखाव इंजीनियरिंग में बी.ई
  37. इलेक्ट्रॉनिक्स कंट्रोल सिस्टम इंजीनियरिंग में बी.ई
  38. मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग में बीई
  39. सिस्टम इंजीनियरिंग में बी.ई
  40. ऑटोमोटिव इंजीनियरिंग में बी.ई

जरुर पढ़े: BBA Course की पूरी जानकारी

Advertisement

B.E करने के बाद रोजगार के अवसर (B.E job Opportunities)

बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग में आपके द्वारा सेलेक्ट किए गये सब्जेक्ट के अधरित पर ही आपको नोकरी प्राप्त हो सकती है। हालांकि आपको इस क्षेत्र में नोकरी बहुत आसानी से प्राप्त हो सकती है । जिसमे काफ़ी अच्छी पगार भी मिलती है।

bachelor of engineering पूर्ण करने के बाद स्टूडेंट निचे दी गई फिल्ड में जा सकते है :

  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर
  • वास्तुकार
  • परीक्षण अभियता
  • भवन – निर्माण अभियता
  • साइट इंजीनियर
  • आँकड़े वाला वैज्ञानिक
  • परमाणु अभियंता
  • संरचनात्मक इंजीनियर
  • विद्युत डिजाइन इंजीनियर
  • एयरोस्पेस इंजीनियर
  • विद्युत और एंबेडेड
  • पेट्रोलियम अभियंता
  • सिस्टम डेवलपर
  • मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियर
  • समुद्री इंजीनियरिंग अधिकारी
  • समुद्री सर्वेक्षक
  • नौसेना हथियार इंजीनियरिंग अधिकारी
  • लैंडस्केप आर्किटेक्ट्स
  • रेलवे इंजीनियर
  • निर्माण प्रबंधक
  • सामग्री अभियंता
  • ध्वनि अभ्यंता

जरुर पढ़े: कॉलेज प्रोफेसर कैसे बने?

बी.ई की प्रवेश प्रक्रिया (Bachelor of Engineering Admission process)

हमने आपको उपर बताया की बी.ई. (bachelor of science) की Eligibility (योग्यता) क्या होनी चाहिए। आप 12 वीं कक्षा पास करने के बाद आप अपने अनुसार कोई भी अच्छी कॉलेज या फिर यूनिवर्सिटी में ऑफलाइन या ऑनलाइन के प्रवेश के फॉर्म भर दीजिए।

इंडिया में ऐसे सारे बहुत कॉलेज और यूनिवर्सिटी है, जिसमे आपको एडमिशन लेने के लिए उनकी एंट्रेंस एग्जाम को देना जरुरी होगा और उसमे पास भी होना होगा । इसके अलावा यदि आप आई.आई.टी. जैसी बड़ी इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेना चाहते है तो आपको जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम (jee mains), जॉइंट एंट्रेंस एग्जाम एडवांस (jee mains) एग्जाम को अच्छे मार्क्स के साथ पास करना होगा । B.E. में ज्यादातर एडमिशन आपके मार्क्स के आधारित  होता है । जितनी अच्छी आपकी परफोर्मेंस होगी, उतनी ही अच्छी कॉलेज में आपका एडमिशन मिलेगा।

Advertisement
  • जेईई मेन: ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम मेन
  • वीआईटीईईई: वीआईटी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा
  • KCET: कर्नाटक कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
  • जेईई एडवांस्ड: ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम एडवांस्ड
  • यूपीएसईई: उत्तर प्रदेश राज्य प्रवेश परीक्षा
  • टीएस ईएएमसीईटी: तेलंगाना स्टेट इंजीनियरिंग, एग्रीकल्चर और मेडिकल
  • कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
  • आईपीयू सीईटी: इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
  • APEAMCET: आंध्र प्रदेश इंजीनियरिंग, कृषि और मेडिकल कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
  • MHTCET: महाराष्ट्र कॉमन एंट्रेंस टेस्ट
  • CUSAT: चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी स्कॉलरशिप एडमिशन टेस्ट
  • डब्ल्यूबीजेईई: पश्चिम बंगाल संयुक्त प्रवेश परीक्षा
  • बिटसैट: बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस एडमिशन टेस्ट
  • जेईईसीई: झारखंड इंजीनियरिंग प्रवेश प्रतियोगी परीक्षा

जरुर पढ़े: पीएचडी क्या है? कैसे करे पूरी जानकारी

B.E. Course के लिए उपयोगी पुस्तके :

bachelor of engineering के लिए कुछ महत्वपूर्ण पुस्तको की जानकारी निचे की सूचि में दी जा रही है जो आपके engineering के एडमिशन एग्जाम के लिए बहुत उपयोगी होगी।

  • एनसीईआरटी भौतिकी
  • एच.सी. वर्मा वॉल्यूम 2
  • एच.सी. वर्मा खंड १
  • रेसनिक हॉलिडे
  • बालाजी भौतिकी में उन्नत समस्याएं

Bachelor of Engineering की मुख्य शाखा – (Branches of B.E)

कोई भी विद्यार्थी BE (Bachelor of Engineering) के अंतर्गत ऐसे बहुत सारे शाखा में से किसी एक BE की डिग्री प्राप्त कर सकता है। यह इंजीनियरिंग कोर्स उन्हें अपने पसंद के शाखा सिलेक्शन की स्वतंत्रता देती है| निचे प्रमुख ब्रांच की लिस्ट दि गई है:

Aeronautical EngineeringTextile EngineeringMechatronics Engineering
Civil EngineeringRobotics EngineeringPower Engineering
Aerospace EngineeringMechanical EngineeringStructural Engineering
Industrial EngineeringMarine EngineeringPetroleum Engineering
Automobile EngineeringProduction EngineeringMetallurgical Engineering
Ceramic EngineeringBiomedical EngineeringConstruction Engineering
Electronics EngineeringMarine EngineeringTool Engineering
Telecommunication EngineeringEnvironmental EngineeringTransportation Engineering
Communications EngineeringBiotechnology EngineeringElectrical Engineering
Computer Science EngineeringChemical EngineeringMining Engineering

B.E की कोर्स फीस कितनी है? (Bachelor of Engineering Course Fees)

B.E. (बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग) की Average fees रुपए 25,000 से 2 Lakh पर प्रतिवर्ष होती है। लेकिन बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग कोर्स की फीस अलग अलग यूनिवर्सिटी पर आधारित है, उनकी Service, Standard, Campus पर आधारित होती है।

जरुर पढ़े: UPSC Exam की पूरी जानकारी हिंदी में पढ़े

B.E करने के बाद करियर (Career after doing Bachelor of Engineering)

अगर आप B.E. करने के बाद खुद का करियर देखेंगे तो इसमें बहुत सारा स्कोप मोजूद है। इस कोर्स को करने के बाद आपको डिफरेंट करना होगा, क्युकी आप जो भी Skills में पढाई करते है उसमे आपको मास्टर बनना होगा।

अगर engineering करने के बाद आपकी जॉब की बात करे तो,इसमें आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर, मैकेनिकल इंजीनियर, डेटा साइंटिस्ट, कंस्ट्रक्शन इंजीनियर, रेलवे इंजीनियर, एरोनॉटिकल, आर्कटिक और कंस्ट्रक्शन मैनेजर जैसे पोस्ट के लिए आप जॉब कर सकते है। engineering job इस बात पर भी आधारित है की आप engineering में कोर्स और किस सब्जेक्ट में विशेषज्ञता किया जाता है। इसके अनुसार आपको नोकरी मिलेंगी।

B.E. के बाद कितनी पगार मिल सकती है ? (Salary after Bachelor of Engineering)

bachelor of engineering करने के बाद आपको कितनी पगार मिलेगी, यह अलग-अलग स्ट्रीम और आप किस सब्जेक्ट में विशेषज्ञता कि है इस बात पर निर्भर होता है। इसके अलावा आपको नोकरी पोस्ट, आपको स्किल्स और आपके अनुभव पर निर्भर होता है। फिर भी B.E. (Bachelor of Engineering Course)  के बाद 6.53 लाख्स पर प्रतिवर्ष  की एवरेज पगार पा सकते है।

Advertisement

जरुर पढ़े: NEET एग्जाम की पूरी जानकारी

Last Final Word :

आज के इस आर्टिकल में जाना बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग कोर्स के बारे में की, B.E क्या है (what is B.E. details in Hindi), बी.ई कैसे किया जाता है? (how to do bachelor of engineering), क्या योग्यता होनी चाहिए?,  बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग करने के बाद आपका कैरियर कैसा रहेगा, और भी बहुत कुछ इस आर्टिकल में हमने BE (bachelor of engineering) से जुड़ी डिटेल में जानकारी देने की कोशिश की है, हमे उम्मीद है कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी।

दोस्तों आपके लिए Studyhotspot.com पे ढेर सारी Career & रोजगार और सामान्य ज्ञान से जुडी जानकारीयाँ एवं eBooks, e-Magazine, Class Notes हर तरह के Most Important Study Materials हर रोज Upload किये जाते है जिससे आपको आशानी होगी सरल तरीके से Competitive Exam की तैयारी करने में।

आपको यह जानकारिया अच्छी लगी हो तो अवस्य WhatsApp, Facebook, Twitter के जरिये SHARE भी कर सकते हे ताकि और भी Students को उपयोगी हो पाए। और आपके मन में कोई सवाल & सुजाव हो तो Comments Box में आप पोस्ट कर के हमे बता सकते हे, धन्यवाद्।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement